खुद को आधुनिक कहने वाली पश्चिमी सभ्यता खुद पुरुषवादी सोच में अभी भी बुरी तरह जकड़ी हुई है. अमेरिका, जहाँ कहा जाता है की महिलाओं को सबसे अधिक स्वतंत्रता है लेकिन वहां की जनता ने आजतक किसी महिला को राष्ट्रपति नही चुना, यही हाल अमेरिका के घोर दुश्मन रूस का भी है हालाँकि दोनों देश सैन्य शक्ति तथा टेक्नोलॉजी के लिए आपस में जितनी चाहे प्रतिस्पर्धा कर ले लेकिन महिलाओं को ‘प्रोडक्ट’ ‘सेक्स सिम्बल’ की अपनी सोच से बाहर नही आ पा रहे है, उनकी नज़र में असभ्य कहे जाने वाले देश भारत, पकिस्तान,बांग्लादेश में महिलाए देश की बागडौर संभाल चुकी है चाहे वो खालिदा जिया हो, इंदिरा गाँधी या फिर बेनजीर भुट्टो.

रूस में 16 वर्ष से कम उम्र की लड़कियों को चेक करवानी होगी अपनी वर्जिनिटी

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

रूस के डॉक्टरों को कथित तौर पर यह निर्देश दिए गए हैं कि नाबालिग लड़कियों का वर्जिनिटी टेस्ट किया जाए। रूस की इनवेस्टिगेटिव कमिटी ने सभी मेडिकल प्रफेशनल्स को यह कहा है कि वे 16 साल से कम उम्र की लड़कियों की यौन गतिविधियों को लेकर प्रमाण इकट्ठे करें।

‘द इंडिपेंडेंट’ की खबर के मुताबिक इस आदेश ने जनता को नाराज कर दिया है। डॉक्टरों से लेकर राजनेता भी इस फैसले का विरोध कर रहे हैं। उनका मानना है कि इससे घबराकर अब किशोरियां जरूरत के समय भी डॉक्टर से संपर्क नहीं करेंगी।

हालांकि रूस के स्वास्थ्य मंत्री ने साफ कर दिया है कि डॉक्टर्स को इस आदेश का पालन करना होगा और उन्हें पुलिस को 16 साल की सभी लड़कियों के वर्जिनिटी जाने, प्रेग्नेंसी, अबॉर्शन से जुड़ी जानकारी देनी होगी। इस ऑर्डर के मुताबिक डॉक्टर्स को लड़कियों के हाइमन की जांच करनी है।

Read Hindi News Click Here

Loading...