नोटबंदी के बाद खर्च ना चला पा रहा एक बदमाश ने इंटरनेट पर युवती को कॉलगर्ल बताते हुए उसकी फर्जी प्रोफाइल बनाई और अपना मोबाइल नंबर दे दिया। जब किसी का फोन आता तो वह पेटीएम के जरिए पहले खुद का मोबाइल बैलेंस डलवाता और फिर युवती का नंबर उपलब्ध करा देता। पुलिस मामले को गंभीरता से लेकर जांच शुरू कर दी है। वहीं सोशल साइट और पेटीएम कंपनी से आरोपी की जानकारी मांगी है।

मामला इंदौर का है। पुलिस ने बताया कि रियल इस्टेट कंपनी में जॉब करने वाली युवती ने मामला दर्ज कराया था। आरोपी गगन से उसकी दोस्ती थी। कुछ समय पहले उससे बातचीत बंद कर दी। तब से वह परेशान करने लगा। वह मुझे बदनाम कर रहा है। उसने एक वेब साइट के माध्यम से मेरा मोबाइल नंबर भी वायरल कर दिया।

क्लिक करके पूरी खबर पढ़े – 

Loading...