evm selling online

हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनावों में evm के मुद्दे को काफी हवा मिल रही है, जहाँ एक तरफ दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने evm की कार्यप्रणाली से लेकर इसके पारदर्शिता पर सवालिया निशान लगाये है वहीँ यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव तथा ममता बनर्जी तक ने बयान देकर evm को सन्देह के घेरे में ला खड़ा किया है जिसके बाद खुद चुनाव आयोग को स्पष्टीकरण देना पड़ गया.

ऐसा पहली बार नही हुआ है जब किसी पार्टी ने evm पर सवाल किया है इससे पहले बीजेपी भी evm मशीन की पारदर्शिता पर ऊँगली उठा चुकी है लेकिन आज हम जिस पर चर्चा कर रहे है वो मामला कुछ अलग है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

यह सर्वविदित है की चुनाव आयोग इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन की सुरक्षा को लेकर हमेशा चौकन्ना रहता है, evm को सील बंद करना, लाना ले जाना, रखरखाव सुपरीटेंडैंट की निगरानी में होता है यहाँ तक की आम जनता को सिर्फ एक बार evm को छूने का मौका मिलता है वो भी तब जब वो वोट डालता है.

ऐसे में अगर यह कहा जाये की evm मशीन ऑनलाइन बिक रही है और वो भी  17,973 रुपए में तो कोई भी इस बात पर ज़रा भी यकीन नही करेगा लेकिन यह सच है इंडिया मार्ट वेबसाइट पर ऑनलाइन वोटिंग मशीन के नाम से एक मशीन बेचीं जा रही है जिसमे यह दावा किया जा रहा है की यह मशीन बिजली तथा  बैटरी से चालित है जिसमे प्रति सेकंड 1 वोट काउंट किया जा सकता है तथा इस मशीन में एक बैलट  यूनिट तथा एक कण्ट्रोल यूनिट लगी हुई है.

इसके बाद मशीन की खासियत बताते हुए सेलर कहता है की डेमो/डमी/ट्रेनर मशीन को वोटर को ट्रेनिंग देने में इस्तेमाल किया जा सकता है,यहाँ तक की इस मशीन में जो वोटिंग होती है वो इंटरनेशनल स्टैण्डर्ड की होती है.( अब यह इंटरनेशनल स्टैण्डर्ड क्या है यह तो मशीन बनाने वाली कंपनी बता सकती है यह बेचने वाला).

इस मशीन में क्या है भिन्नता ?

शुरूआती देखरेख में तो ऐसा प्रतीत होता है जैसे की यह मशीन ओरिजिनल वोटिंग मशीन की मात्र कॉपी है जो निजी क्षेत्रो में होने वाली छोटे लेवल की वोटिंग सिस्टम को हैंडल करने के बनायीं गयी है, जैसे कंपनियों में होने वाली वोटिंग या निजी स्कूलों आदि में. कंपनी का दावा है की सहकारी बैंक, सहकारिता के क्षेत्र में मतदान कराना होता है तो यह मशीन इस्तेमाल की जा सकती है.इंडिया मार्ट पर ऑनलाइन आर्डर देकर घर बैठे यह मशीन आप खरीद सकते है. लेकिन अगर इन मशीन में वही कार्यप्रणाली इस्तेमाल की गयी है जो चुनाव आयोग की evm में इस्तेमाल होती है तो यह मामला  काफी गंभीर हो सकता है क्यों की इसकी प्रोग्रामिंग और कार्यप्रणाली देखकर इसमें इस्तेमाल किये गये सॉफ्टवेर तथा हार्डवेयर से छेड़छाड़ की कोशिश ज़रूर की जाएगी जो आने वाले दिनों में इलेक्शन कमीशन और चुनावी प्रक्रिया पर और अधिक सवालिया निशान लगा सकती है.

सबसे कमाल की बात इसमें यह है की ऑनलाइन बिकने वाली यह एक मात्र मशीन नही है, इसमें भी वैरायटी उपलब्ध है, आपको जैसा कलर पसंद हो, जैसा यूजर इंटरफ़ेस अच्छा लगे .. पैसे दो और घर ले जाओ. फोटो देखें

 

इस लिंक पर जाकर आप भी खरीद सकते है अपनी निजी evm मशीन – https://www.indiamart.com/proddetail/signal-electronic-voting-machine-10906307073.html

Loading...