sayali

सयाली म्हाईस्धुने 14 वर्ष की लड़की कोई आम लड़की नहीं बल्कि डिस्ट्रिक्ट लेवल की दौड़ में गोल्ड मेडलिस्ट है. अपने स्टेट में हुई 3000 मीटर की दौड़ में सयाली ने पहला स्थान अर्जित किया हैं और  इस लड़की के पिता एक मोची है. हैरान करने वाली बात यह कि सायली ने 3000 मीटर की इस दौड़ में नंगे पैर दौड़ा हैं. और ऐसा करने वाली वह पहली महिला है.

कहा जाता है कि आसमान में उड़ने के लिए पर कि ज़रूरत नहीं होती मज़बूत हौसला और पक्के इरादे हो तो उड़ान अपने आप भर जाती हैं. जिसका जीता-जगता उदहारण एक मोची कि बेटी सयाली हैं. जिन्होंने अपने सपनो को हकीकत में बदलने के लिए जी तोड़ मेहनत की और उम्मीद है कि वह अपनी मंज़िल को पाने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी.

सयाली ने कहा कि, “अब हम 2016 ओलंपिक्स की तैयारियां कर रहे हैं, ओलंपिक खेल हर प्लेयर का सपना होता है, 207 देशों के इस महाकुंभ को दुनिया भर में खूब पसंद किया जाता है”.

सयाली ने बताया, “कि हमारे देश से ओलंपिक खेलों के लिए कुछ ही खिलाडी क्वालीफाई कर पाते हैं,इस देश में सुविधाओं के नाम पर कुछ नहीं मिलता, ऐसा नहीं है कि हमार पास टैलेंट की कमी है, मगर यहां बुनियाद ही कच्ची है”.

Web-Title: A cobbler’s daughter winner of gold medal

Key-Words: Sayali, cobbler, daughter, 300 metre, race, gold medallist

कोहराम न्यूज़ को सुचारू रूप से चलाने के लिए मदद की ज़रूरत है, डोनेशन देकर मदद करें




Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें