राम मंदिर निर्माण को लेकर 25 नवंबर को अयोध्या में आशीर्वाद और धर्मसभा का आयोजन करने जा रही शिवसेना को योगी सरकार ने बड़ा झटका दिया है। योगी सरकार ने उद्धव ठाकरे को रैली के लिए इजाजत देने से इंकार कर दिया। हालांकि उद्धव ने अपने कार्यक्रम को रद्द नहीं किया है।

जानकारी के अनुसार,  उद्धव ठाकरे शनिवार से अयोध्या के दो दिवसीय दौरे पर हैं। तय कार्यक्रम के अनुसार उद्धव का 24 नवंबर को अयोध्या पहुंच आशिर्वाद समारोह और सरयू आरती में शामिल होना है। इसके बाद राम लला के दर्शन कर मीडिया के मुखातिब होने के बाद वह वापस चले जाएंगे।

न्यूज़ 18 के अनुसार, ठाकरे का सभास्थल विवादित मस्जिद और राम जन्मभूमि के करीब होने की वजह से यूपी सरकार ने सभा करने की इजाजत नहीं दी। सभा रद्द होने की पुष्टि शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने कर दी है। इस कार्यकर्म को लेकर बाबरी मस्जिद के मुद्दई इकबाल अंसारी ने मुसलमानों की सुरक्षा को लेकर चिंता जताई थी।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

yogi adityanath l pti

इक़बाल अंसारी ने कहा, “मेरी सुरक्षा और मेरे परिवार की भी सुरक्षा कम है। कोई अनहोनी घटना हो सकती है। अगर सुरक्षा नहीं बढ़ाई जाती तो 25 नवंबर के पहले अयोध्या छोड़ दूंगा।” हालांकि कुछ समय बाद ही प्रशासन की और से अंसारी को सुरक्षा प्रदान कर दी गई।

अतिरिक्त सुरक्षा मिलने के बाद इकबाल अंसारी का इस विवाद को लेकर भी बड़ा बयान सामने आया है। अंसारी ने कहा कि मंदिर को लेकर कानून बने हमें कोई एतराज नहीं। हम आने वाले कानून का समर्थन करते हैं। हम कानून को मानने वाले हैं। बिल का करेंगे समर्थन लेकिन देश में अमन चैन होना चाहिए । कानून बनने से देश में अमन चैन रहता है, तो भाजपा जरूर कानून बनाए । हम देश का भला चाहते हैं।

Loading...