yeem

फ़ार्स न्यूज़ एजेन्सी की रिपोर्ट के अनुसार यमनी सेना और स्वयं सेवी बलों ने घोषणा की है कि सऊदी अरब के दक्षिणी शहर जीज़ान को मध्य दूरी वाले बैलेस्टिक मीज़ाइल बद्र-1 से निशाना बनाया गया।

यमनी सेना और स्वयं सेवी बलों की मीज़ाइल यूनिट ने इससे पहले शुक्रवार को भी जीज़ान में सऊदी अरब के सैन्य ठिकाने को निशाना बनाया था।

इससे पहले यमनी सेना के प्रवक्ता शरफ़ लुक़मान ने बल दिया था कि जब तक यमन पर सऊदी अरब के हमले नहीं रुकते और इस देश का परिवेष्टन समाप्त नहीं होता तब तक सऊदी अरब के सैन्य ठिकानों, आर्थिक संस्थाओं और महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों पर हमले होते रहेंगे। हालिया दिनों में यमनी सेना की रक्षा क्षमताओं में ज़बरदस्त वृद्धि हुई है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

bin salman

उल्लेखनीय है कि सऊदी अरब ने 20 मार्च वर्ष 2015 से यमन पर पाश्विक हमला कर रहा है,  सऊदी अरब के साथ कुछ अरब देशों के अलावा अमेरिका, ब्रिटेन और ज़ायोनी शासन भी उसका सहयोग कर रहे हैं, लेकिन इन सब के बावजूद यमन की जनता पूरी बहादुरी के साथ इन साम्राज्यवादी शक्तियों के डटकर मुक़ाबला कर रही हैं और यही कारण है कि आज तक सऊदी अरब अपने किसी भी लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर सका है बल्कि उसको यमन में लगातार पराजय का सामना करना पड़ रहा है।

ज्ञात रहे कि सऊदी अरब के लगातार हमलों और उसके द्वारा यमन की ज़मीनी, हवाई और समुद्री नाकाबंदी के बावजूद, यमनी सेना की रक्षा प्रणाली में दिन प्रतिदिन वृद्धि हुई है और उनकी मिसाइलों ने रियाज़ के शाही महल में बैठे आले सऊद शासकों की नींदें  हाराम कर दी हैं।