दुनिया के सामने अब अब तक का सबसे बड़ा संकट सामने आया हैं. जो कभी भी विकराल रूप ले सकता हैं. सयुंक्त राष्ट्र ने कहा कि 1945 के बाद से दुनिया, सबसे भयानक मानवीय संकट से गुज़र रही है.

संयुक्त राष्ट्र संघ ने कहा कि यमन, सोमालिया, उत्तरी सूडान और नाइजीरिया में लगभग दो करोड़ लोग भुखमरी और अकाल के ख़तरे का सामना कर रहे हैं. इसके अलावा निसेफ पहले ही चेतावनी दे चुका है कि इस साल 14 लाख बच्चे भूख से मर सकते हैं.

राष्ट्रसंघ के अधिकारी ओ-ब्रायन का कहना है कि इस समय हम इतिहास के बहुत ही नाज़ुक मोड़ पर हैं. संयुक्त राष्ट्र की स्थापना के बाद से इस साल 2017 में दुनिया सबसे भयावह मानवीय संकट का सामना कर रही है.

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार यमन में हर दस मिनट में एक बच्चा ऐसी बीमारी से मर रहा है जिसका उपचार संभव है किंतु दवाएं और डाक्टरों की कमी के कारण यह मासूम बच्चे मर रहे हैं. यमन में क़रीब पांच लाख बच्चे भयावह कुपोषण के शिकार हैं.

उन्होंने कहा कि युद्धग्रस्त यमन के एक करोड़ नव्वे लाख लोगों को तत्काल सहायता की आवश्यकता है. यदि सामूहिक और समन्वित वैश्विक प्रयास नहीं हुए तो निश्चित रूप से लाखों लोग भूख से मर जाएंगे.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?