Wednesday, December 1, 2021

पाकिस्तान में नियुक्त किया गया पहला नेत्रहीन जज

- Advertisement -

यूसुफ सलीम, जिन्होंने पाकिस्तान के पहले नेत्रहीन न्यायाधीश के रूप में शपथ ली है, जीवन में आगे बढ़ने के लिए अक्षमता पर काबू पाने में काफी लंबा सफर तय किया है. अपनी ज़िन्दगी में उन्होंने यह मुकाम बहुत मेहनत और लग्न से हासिल किया है.

सलीम 2014 में पंजाब विश्वविद्यालय से स्नातक होने के दौरान स्वर्ण पदक विजेता थे और फिर नागरिक न्यायाधीश बनने के लिए आवेदन करने से पहले दो साल तक लॉ की प्रक्टिस जारी रखी.

पंजाब सरकार के एक विभाग में सलीम सहायक निदेशक (विधि) के तौर पर काम कर रहे थे और दिवानी न्यायाधीश के पद के लिए हुई लिखित परीक्षा में शामिल हुए 300 उम्मीदवारों में से पास हुए 21 प्रतिभागियों में शामिल थे.


12 मई को सलीम को लाहौर हाई कोर्ट की तरफ से दीवानी न्यायाधीश-मैजिस्ट्रेट के तौर पर उनकी नियुक्ति से संबंधित चिट्ठी मिली. सलीम के पिता चार्टड अकाउंटेंट हैं. सलीम जन्म के समय से ही नेत्रहीन हैं. उनकी एक बहन सायमा सलीम भी सिवलि सेवा परीक्षा पास करने वाली पहली नेत्रहीन थीं और प्रधानमंत्री कार्यालय में डेप्युटी सेक्रटरी के तौर पर काम कर रही हैं.

सलीम ने कहा, “मैं 21 भाग्यशाली लोगों में से एक था जो 6,500 आवेदकों में आये थे. मैं परीक्षा के लिखित हिस्से में सबसे आगे था और मनोवैज्ञानिक इंटरव्यू चरणों के माध्यम से जाने के बाद मुझे इस पद के लिए चुना गया. 

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles