Tuesday, August 3, 2021

 

 

 

कोरोनोवायरस के खिलाफ दुनिया भर में मास्क की कमी: WHO चीफ

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली: वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) के प्रमुख ने शुक्रवार को चेतावनी दी कि, कोरोना वायरस को फैलने से रोकने वाले मास्क और अन्य सुरक्षा उपकरणों की दुनिया भर में कमी हो रही है।

तेदरोस अदहानोम गेब्रेयसस ने जिनेवा में डब्ल्यूएचओ के कार्यकारी बोर्ड को बताया, “दुनिया सुरक्षा उपकरण की भारी कमी का सामना कर रही है।”  उन्होंने कहा कि वह सुरक्षा मास्क की आपूर्ति करने वाले नेटवर्क के सदस्यों से बात करेंगे और उत्पादन में आ रही “बाधाओं” को दूर करने की कोशिश करेंगे।

डब्ल्यूएचओ ने इस हफ्ते की शुरुआत में कहा था कि उसने मदद चाहने वाले देशों को मास्क, दस्ताने, रेस्पिरेटर, सुरक्षा वस्त्र और जांच किट भेजना शुरू किया है। तेदरोस ने कहा कि कुछ देश विषाणु के पुष्ट मामलों पर अब भी क्लिनिकल डेटा साझा नहीं कर रहे हैं। उन्होंने कहा, “हम उन सदस्य देशों से तत्काल सूचना साझा करने की अपील करते हैं।”

उन्होंने कहा, “कोई देश या संगठन अकेले इस प्रकोप को नहीं रोक सकता। हमारी एकमात्र उम्मीद साथ काम करना है।” तेदरोस ने कहा, “हमारा सामान्य दुश्मन है जो खतरनाक है और यह बहुत गंभीर सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक उलट-पुलट कर सकता है। यह वक्त इससे लड़ने और एकजुट होकर लड़ने का है।” तेदरोस ने कहा कि पिछले दो दिनों में वायरस के मामलों में गिरावट आई है। उन्होंने कहा कि यह ‘अच्छी खबर है लेकिन हमें इसके प्रति सचेत रहना चाहिए- संख्या फिर से बढ़ सकती है।”

उधर नेपाल ने शुक्रवार को घातक कोरोना वायरस के प्रकोप से जूझ रहे चीन को एक लाख सुरक्षा मास्क दिए है। नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप कुमार ग्यावली और स्वास्थ्य मंत्री भानुभक्त ढकाल ने एक कार्यक्रम में नेपाल मे चीन के राजदूत होउ यान्की को मास्क सौंपे। नेपाल सरकार ने गुरुवार को एक उच्च-स्तरीय बैठक में चीन को एक लाख सुरक्षा मास्क भेजने का निर्णय लिया था।

इस अवसर पर चीनी राजदूत होउ ने नेपाल सरकार और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को कोरोना वायरस से लड़ाई में योगदान के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा, “इस तरह के समर्थन और एकता से चीन और उसके नागरिकों को इससे लड़ने की इच्छाशक्ति मिलती है।’’ चीनी अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि कोरोना वायरस से चीन में अब तक 636 लोगों की मौत हो चुकी है और संक्रमण के 30 हजार से ज्यादा मामलों की पुष्टि हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles