सऊदी अरब के न्यूक्लियर रिएक्टर का काम पूरा, सैटेलाइट तस्वीर से आया सच सामने

6:53 pm Published by:-Hindi News

सऊदी अरब ने न्यूक्लियर रिएक्टर का काम लगभग पूरा कर लिया है। गूगल अर्थ से आई तस्वीरों के मुताबिक, न्यूक्लियर अनुसंधान सुविधा केंद्र किंग अब्दुल अजीज सिटी फॉर साइंस एंड टेक्नोलॉजी के एक कोने पर स्थित है।

इस खुलासे के बाद एक बार फिर दुनिया भर में सऊदी अरब के इस कदम का विरोध होने की संभावना है। हालांकि, सऊदी पहले ही यह स्वीकार कर चुका है कि उसका परमाणु कार्यक्रम आगे बढ़ रहा है। सऊदी अरब के ऊर्जा मंत्रालय ने कहा है कि इसका उद्देश्य शांतिपूर्ण वैज्ञानिक अनुसंधान के अलावा कुछ नहीं है।

सऊदी अरब ने यह भी कहा है कि ये सिर्फ नागरिक परमाणु कार्यक्रम होगा। जब तक वियना में अतंरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी के साथ सऊदी अरब का कान्ट्रैक्ट नहीं हो जाता तब तक न्यूक्लियर फ्यूल देने वाले देश तब तक सऊदी अरब को नाभिकीय फ्यूल सप्लाई नहीं करेंगे।

दरअसल, अंतर्राष्ट्रीय नियमों पर हस्ताक्षर किए बिना नाभिकीय प्रौद्योगिकी के उपयोग की सऊदी के कोशिशों की विश्व भर में आलोचना की जा रही है। सऊदी अरब ने अभी तक परमाणु मुद्दे पर किसी भी अंतर्राष्ट्रीय संधि पर हस्ताक्षर नहीं किया है।

crown
source: Al Arabiya

30 साल बाद इराक में खोला वाणिज्य दूतावास

सऊदी अरब ने इराक की राजधानी बगदाद में वाणिज्य दूतावास 30 साल बाद फिर शुक्रवार को खोला और इराक के लिए एक अरब डॉलर के सहायता पैकेज की घोषणा की। कई सालों से तनावपूर्ण संबंधों से गुजर रहे इन दोनों देशों के बीच यह संबंधों में सुधार का संकेत है।

बगदाद के अतिसुरिक्षत ग्रीन जोन में एक कार्यक्रम में वाणिज्य दूतावास खुला। इस दौरान इराक के विदेश मंत्री मोहम्मद अल्हाकिम ने इस भवन पर सऊदी का हरा झंडा फहराया । वाणिज्य दूतावास इराकियों के लिए वीजा जारी करेगा। इराक के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अहमद शहाफ ने कहा कि इस कदम से दोनों देशों को लाभ पहुंचने की संभावना है।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें