फ़्रांस के दक्षिणपूर्वी क्षेत्र में स्थित ल्यूरीट शहर के अधिकारियों ने समस्त मुसलमानों से मांग की है कि वह बिना शोर शराब किए चुपचाप रोज़े रखें और रोज़े के दिन महिलाएं नक़ाब न पहनें। ल्यूरीट के मेयर ने रमज़ान का चांद निकलने के कुछ घंटे बाद यह घोषणा जारी की। इस शहर में पांच लाख से अधिक मुसलमान रहते हैं। उन्होंने यह नहीं बताया कि उनके इस काम का क्या लक्ष्य है।

इस बयान में आया है कि पवित्र रमज़ान में बिना किसी हंगामे के रोज़े रखना चाहिए और सभी को खुले चेहरे के साथ आना जाना चाहिए। फ़्रांस की इस कार्यवाही पर विश्व स्तर पर प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

लोर प्रांत की इस्लामी परिषद के प्रमुख उमर बलवादने इस कार्यवाही पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि मुसलमान अल्पसंख्यक इस घोषणा अपमान का आभास कर रहे हैं, अच्छा यह था कि मेयर साहब को इस घोषणा के जारी करने से पहले इस्लामी संघों और संगठनों से परामर्शर करना चाहिए था।