मोहम्मद अली दुनिया के महान मुक्केबाज़ ने क्यों अपनाया था इस्लाम

आपको बता दें कि अमेरिका के क्या बल्कि विश्व के सबसे प्रसिद्ध और सबसे महान मुक्केबाज मोहम्मद अली ने सार्वजनिक रूप से 1964 में इस्लाम धर्म कुबूल किया था। मोहम्मद अली का यह फैसला उनके लिए एक बहुत ही असाधारण कदम था।

आपको बता दें मोहम्मद अली ने जब इस्लाम कुबूल किया था तो उनके कई प्रशंसक और परिवार वालों ने उनके इस फैसले की बहुत आलोचना की यहां तक की मोहम्मद अली के गृह नगर के अखबारों में उनका जन्म के वक्त का नाम कैसियस क्ले ही लिखना जारी रखा।

मोहम्मद अली ने वियतनाम युद्ध में शामिल होने से भी इंकार कर दिया था। उनके इस फैसले से उन्हें अपना खिताब और आजीविका से हाथ धोना पड़ा लेकिन आखिर में उनके इन्हीं फैसलों ने उन्हें एक मजबूत शख्स के रूप में दुनिया के सामने पेश किया।

मोहम्मद अली का जन्म 17 जनवरी 1942 को हुआ था। बचपन से ही मोहम्मद अली मुसलमान नहीं थे बल्कि उनका नाम कैसियस क्ले था। टाइम पत्रिका ने अपनी वेबसाइट पर पब्लिश किया है – अली ए लाइफ, एक किताब ‘आउट इन अक्टूबर फ्रॉम हाटिन मिसलिन हरकोर्ट’ जिसके लेखक जोनाथन ईग है।

इस किताब में एक पत्र का जिक्र है जो मोहम्मद अली अपनी दूसरी पत्नी खलीलाह किमाचो अली को लिखते हैं। मोहम्मद अली ने इस पत्र में लिखा कि वह नेशन ऑफ इस्लाम अखबार में एक कार्टून देख रहे थे। उन्होंने इस कार्टून में देखा कि कैसे गोरे दास मालिक क्रूरता से अपने दोस्तों को मारते हैं और दूसरी तरफ वे Jesus की प्रार्थना भी करते हैं। अली को यह कार्टून बहुत पसंद आया और उन्होंने लिखा है कि उस कार्टून का ऐसा असर पड़ा कि उन्हें यह फैसला लेने का ख्याल आया।

विज्ञापन