बढ़ते मामलों के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने बड़ा दावा करते हुए कहा कि जानलेवा कोरोना वायरस हवा में फैलता है। इस बारे में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने अब नई गाइडलाइन जारी की है।

दरअसल, कुछ  दिनों पहले 32 देशों के 239 वैज्ञानिकों ने WHO को लिखे एक पत्र में बताया था कि कोरोना एक एयरबॉर्न वायरस है, जो हवा में भी फैल सकता है। वैज्ञानिकों ने कुछ साक्ष्यों पर भी प्रकाश डाला है जो बताते हैं कि वायरस के नन्हे पार्टिकल्स हवा में रहकर लोगों को संक्रमित कर सकते हैं। WHO ने इन तथ्यों पर आधारित रिपोर्ट को अब स्वीकार कर लिया है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की गाइडलाइन में कहा गया कि कुछ विशेष स्थानों पर कोरोना वायरस का संक्रमण हवा के जरिए फैल सकता है। इसमें भीड़ वाली जगह में एरोसोल ट्रांसमिशन के साथ-साथ रेस्टोरेंट और फिटनेस क्लासेस में भी हवा के जरिए कोरोना वायरस फैलने की बात कही गई है।

इस बात की भी आशंका जताई गई है कि किसी बंद जगह पर लंबे समय तक संक्रमित व्यक्ति के रहने के कारण भी कोरोना वायरस का संक्रमण उस जगह पर हवा के जरिए फैल सकता है। इसलिए लोगों को सबसे पहले इस बात के लिए जरूर सतर्क हो जाना चाहिए कि वह ऐसी जगह पर जाने से बचें जहां पर भीड़-भाड़ हो। इसके साथ-साथ हमें किसी वेंटिलेशन की अच्छी सुविधा वाली बिल्डिंग में एंटर करना चाहिए।

डब्‍ल्‍यूएचओ ने यह भी कहा कि वायरस उन लोगों द्वारा फैलाया जा सकता है, जिनमें इसके लक्षण भी नहीं हैं। “संक्रमित लोग वायरस को तब प्रसारित कर सकते हैं, जब उनके लक्षण होते हैं या तब भी जब उनके लक्षण नहीं होते हैं।” डब्ल्यूएचओ ने इससे पहले, कहा था कि asymptomatic transmission शायद “बहुत दुर्लभ है।

WHO की गाइडलाइन

फिटनेस सेंटर अभी ज्वाइन ना करें

जिस रूम में अगर कोई कोरोना का मरीज था तो उस रूम को अच्छी तरह से सैनिटाइज़ करें

मास्क लगाना न भूले

सोशल डिस्टन्सिंग का ध्यान दें

वेंटिलेशन की अच्छी सुविधा

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन