प्रधान मंत्री महाथिर मोहम्मद ने सोमवार को कहा कि मलेशिया भारत के साथ ताड़ के तेल के बहिष्कार का जवाब देने के लिए बहुत छोटा है।

महाथिर ने मलेशिया के पश्चिमी तट से दूर एक सहारा द्वीप लैंगकावी में संवाददाताओं से कहा, “हम जवाबी कार्रवाई करने के लिए बहुत छोटे हैं। हमें इससे उबरने के रास्ते और साधन तलाशने होंगे।”

बता दें कि भारत ने इस महीने से मलेशियाई ताड़ के तेल के आयात को रोक दिया, क्योंकि कश्मीर पर महाथिर की टिप्पणियों के बाद दोनों देशों के बीच बड़ा तनाव पैदा हो गया है।

भारत और मलयेशिया के मंत्री करेंगे मुलाकात

अगले हफ्ते दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की बैठक होनी है। इससे इतर मलयेशिया के वाणिज्य मंत्री डारेल लेइकिंग अपने भारतीय समकक्ष पीयूष गोयल से मुलाकात करेंगे। इस बैठक को लेकर कोई एजेंडा तय नहीं किया गया है। मगर माना जा रहा है कि संबंधों में सहजता लाने के लिए यह बैठक महत्वपूर्ण होगी।

क्या कहा था महातिर ने

कश्मीर का जिक्र करते हुए मलयेशिया के प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर कहा था कि दुनिया म्यांमार में रोहिंग्याओं पर हो रहे अत्याचारों को रोकने में नाकाम रही, जिसके कारण यूएन रेजॉलूशन के सम्मान में कमी आई है। अब, जम्मू और कश्मीर पर यूएन रेजॉलूशन के बाद भी, एक देश (भारत) ने इस पर जबरन कब्जा जमा लिया है। एक और ट्वीट में उन्होंने कहा था कि जम्मू-कश्मीर में कुछ परेशानी हो सकती है, लेकिन इसका समाधान शांतिपूर्ण तरीके से होना चाहिए। भारत और पाकिस्तान को मिलकर इसका समाधान ढूंढना चाहिए।
Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन