रोहिंग्या मुस्लिमों पर म्यांमार सेना का जुल्म थमने का नाम नहीं ले रहा है. जिसके चलते अब तक 6 लाख से ज्यादा रोहिंग्या बांग्लादेश में शरण ले चुके है. जिसमे करीब बच्चों की तादाद 3.20 लाख के करीब है.

इसी बीच अब यूनिसेफ ने दो रोहिंग्या बच्चों की दर्दभरी दास्तां का वीडियो जारी किया है. जिसमे एक बच्चा म्यांमार सैनिकों की गोली से घायल हुआ. बच्चे के पैर में गोली मारी गई. इस बारें में बच्चें का कहना है कि मुझे लगता है कि उन्होंने मुझे गलती से गोली मार दी, क्योंकि वो तो बड़ों को गोलियों मार रहे थे.

आलम मोहम्मद युनूस नाम के इस बच्चें की उम्र 11 साल की है. बच्चें ने कहा कि सैनिक हमारे गांव में आए और लोगों पर गोलियां बरसाना शुरू कर दिया. मोहम्मद का अभी बांग्लादेश में यूनिसेफ के एक कैंप में इलाज चल रहा है.

वहीँ दुसरे बच्चें 11 साल के मुंजाराली ने बताया कि अगर मैं वहां रहता तो वे लोग मुझे भी मार देते. मुंजुराली अभी बांग्लादेश के एक कैंप में रह रहा है.

उसने बताया, ‘सैनिक आते और लोगों को पर गोलियां चलाना शुरू कर दे. उन्होंने मेरी दो बहनों को भी मौत के घाट उतार दिया. इसलिए हम लोग वहां से भागकर यहां आ गए. यहां आकर हमें खुशी है, हम लोग आराम से यहां रह रहे हैं. घर पर हम लोग अच्छे से स्कूल नहीं जा पाते थे और ना ही ढंग से खेल पाते थे.’

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?