रोहिंग्या मुस्लिमों की पिटाई का एक Video समाचार एजेंसी AFP ने जारी किया है। जिसमे तस्करी की नाव पर तस्करों द्वारा रोहिंग्याओं को पीटा जा रहा है।

जानकारी के अनुसार, इस Video को एक तस्कर द्वारा मोबाइल फोन पर फिल्माया गया। जो बाद में इस नाव को छोड़ कर भाग गया। वीडियो में दर्जनों शरणार्थियों को दिखाया गया है, जिनमें बच्चे, पतवार में और डेक पर बैठे हैं। वहीं तस्कर उनके बीच खड़े हैं।

इस दौरान तस्करों में से एक, एक हाथ में एक मोटी रस्सी पकड़े हुए, एक रोहिंग्या आदमी को पीछे धकेलता है और उसे लात मारता है। साथ ही बिना कपड़ों में बैठे युवकों को चाबुक से पिटाई करता है। पिटाई से बचने के लिए ये लोग हाथापाई करते हैं।

16 वर्षीय यात्री मोहम्मद उस्मान ने बांग्लादेश के शरणार्थी शिविर में एक साक्षात्कार में कहा कि “उन्होंने हमें पीटना शुरू कर दिया क्योंकि हमने भोजन के बारे में शिकायत की थी।” “उन्होंने बेतरतीब ढंग से हमें सिर्फ इसलिए पीटा क्योंकि हम अधिक चावल और पानी मांग रहे थे।”

यह फुटेज अप्रैल के मध्य में बांग्लादेश लौटने वाली समूह की नाव से कई दिन पहले शूट किया गया था। जो फरवरी में विदा हो गई थी। हसन ने शरणार्थी शिविर में एएफपी को बताया, “वे हमें बेरहमी से मारते हैं – हमारे सिर पर मारते, हमारे कानों को फाड़ते और हाथ तोड़ते हैं।”

हसन और उस्मान ने कहा कि उनके पोत पर 46 लोग मारे गए, भुखमरी और बीमारी से मर गए। जिसमे पुरुष, महिला और बच्चे थे। एएफपी ने यह भी पुष्टि की कि हसन और उस्मान वीडियो फुटेज में थे। उन्हें उन आदमियों के समूह के बीच मंडराते हुए देखा जा सकता था, जो मार खा रहे थे।