दमिश्क।  तुर्की ने पूर्वी सीरिया में अमेरिकी समर्थित विद्रोहियों कुर्दिश मिलिशिया के खिलाफ बुधवार को अभियान शुरू करने की घोषणा कर दी। जिसको लेकर अमेरिका भड़क गया। अमेरिका ने कहा कि वह इस अभियान मंजूरी नहीं देगा।

अमेरिका के बयान पर तुर्की ने कहा कि वह अपनी भूमि, समुद्र और वायु में अपने अधिकारों की रक्षा करने के लिए दृढ़ है। तुर्की ने अपने “भरोसेमंद” सहयोगियों के साथ पीकेके/वाईपीजी के साथ देश के खिलाफ अमेरिकी सहयोग की आलोचना की। साथ ही कहा कि वाईपीजी पीकेके की सीरियाई शाखा है, जो तुर्की, अमेरिका और यूरोपीय संघ द्वारा आतंकवादी के रूप में मान्यता प्राप्त एक समूह है।

Loading...

तुर्की के रक्षा मंत्री ने सीरिया और इराक में मानव त्रासदियों से निपटने के लिए आवश्यक योगदान न देने के लिए पश्चिम की भी आलोचना की। उन्होंने कहा, “अब हम देखते हैं कि सरेब्रेनिका में त्रासदी की तरह दुनिया सीरिया के दुखद मामलों मे भी बहरी है,” उन्होने कहा कि तुर्की अपने सभी पड़ोसियों की क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करती है।

erdo111

वहीं सीरिया के मानव अधिकार संस्था के अनुसार तुर्की समर्थित विद्रोहियों के कमांडरों ने कहा कि वे लोग आक्रमण करने के लिए ‘तुर्की ब्रदर्स’ के आदेश की प्रतीक्षा कर रहे हैं, जिसके तहत यूफ्रेट्स  नदी के पूर्वी तट तथा इराक की सीमा से लगे सीरिया के डेइर-अल जोर प्रांत में हमला करना है।

उल्लेखनीय है कि जन संरक्षक इकाई (वाईपीजी) के नाम से प्रसिद्ध कुर्दिश नेतृत्व वाले सीरियाई डेमोक्रेटिक फोर्स (एसडीएफ) तथा कुर्दिस्तान वर्कर्स पार्टी (पीकेके) का गढ़ यूफ्रेट्स नदी के पूर्वी तट पर है, जबकि तुर्की समर्थित विद्रोहियों यूफ्रेट्स  नदी के पश्चिमी तट पर स्थित हैं।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें