Tuesday, August 3, 2021

 

 

 

US-ईरान तनाव पर चीन का बड़ा बयान – अमेरिका की ‘सैन्य दादागिरी’ बर्दाश्त नहीं

- Advertisement -
- Advertisement -

शुक्रवार को अमेरिका द्वारा इराक के एयरपोर्ट पर ड्रोन से हमला कर ईरान के जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या कर देने के बाद ईरान ने अमेरिका के खिलाफ युद्ध का ऐलान कर दिया है।

ईरान के क़ौम स्थित प्रमुख मस्जिद पर लाल रंग का झंडा (Red Flag) फहराया गया है। ईरान के सरकारी टीवी चैनल ने दिखाया कि पवित्र शहर क़ौम में जमकारन मस्जिद (Jamkaran Mosque) के गुंबद पर लाल झंडा लगाया गया। शिया समुदाय में लाल झंडे का मतलब होता है बदले की कार्रवाई या फिर युद्ध का ऐलान।

इसी बीच चीन के विदेशमंत्री वांग यी का बड़ा बयान सामने आया है। जिसमे उन्होने अमेरिका को अपनी हद में रहने की नसीहत दी है। उन्होंने कहा कि अमेरिका का ‘सैन्य दुkस्साहस’ किसी भी स्थिति में स्वीकार्य नहीं हो सकता।

अपनी टेलीफोनिक बातचीत की जानकारी देते हुए उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘इराक की संप्रभुता का आदर होना चाहिए। यूएन चार्टर (संयुक्त राष्ट्र अधिकारपत्र) को मानते हुए क्षेत्रीय शांति बरकरार रखने की कोशिश करनी चाहिए। चीन और रूस अंतर्राष्ट्रीय शांति और इंसाफ को बरकरार रखने के लिए लगातार कोशिश करता रहेगा।

वांग ने शुक्रवार को इराक में ईरान के शीर्ष कमांडर कासिम सुलेमानी की मौत का हवाला देते हुए जावद जरीफ से कहा, ‘घातक अमेरिकी सैन्य अभियान अंतरराष्ट्रीय संबंधों के मूल नियमों का उल्लंघन करता है और इससे क्षेत्र में तनाव तथा अशांति बढ़ेगी।’

वहीं फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ने अलग अलग तौर पर रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और तुर्की के राष्ट्रपति रिसेप तैय्यप एडरेऑन के साथ फोन पर मध्य-पूर्व क्षेत्र की स्थिति पर बात की। तीनों नेताओं ने मध्य-पूर्व क्षेत्र की स्थिति पर चिंता जताई और विभिन्न पक्षों से संयम से काम लेने की अपील की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles