जर्मनी के म्यूनिख शहर में चल रहे सुरक्षा सम्मेलन में अमेरिकी सीनेटर ने कश्मीर का मुद्दा उठाते हुए भारत के लोकतंत्र पर सवाल खड़े करने की कोशिश की लेकिन भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने जवाब देते हुए कहा कि भारत स्वयं यह मुद्दा सुलाझा लेगा।

दरअसल, अमेरिकी सीनेटर लिंडसे ग्राहम द्वारा कश्मीर के हालात पर चिंता जताते हुए कहा कि भारत तेज़ी से आगे बढ़ रहा है। आप अपनी परेशानियों का सामना उसी तरह कर रहे हैं जैसे हम अपनी परेशानियों का करते हैं। आपने लोकतांत्रिक तरीक़ा चुना है। लेकिन जब बात कश्मीर की आती है तो मुझे समझ नहीं आता कि यह ख़त्म कैसे होगा लेकिन ये तो निश्चित है कि दो अलग-अलग लोकतंत्र इसे अलग-अलग तरह से ख़त्म करेंगे। अगर आप उस कॉन्सेप्ट को यहां साबित कर सकें तो मुझे लगाता है कि लोकतंत्र को बताने का सबसे अच्छा तरीक़ा होगा।

इस पर जयशंकर ने कहा, “चिंता मत कीजिए। एक लोकतंत्र (भारत) इसे सुलझा लेगा और आप जानते हैं कि वह देश कौन सा है? उन्होंने कहा कि भारत कश्मीर मुद्दे को ख़ुद से ही सुलझा लेगा। जयशंकर ने ये भी कहा, “संयुक्त राष्ट्र अपने इतिहास की तुलना में अब कम भरोसेमंद रह गया है। जब आप इसके बारे में सोचते हैं तो इसकी कम होती विश्वसनीयता आपको आश्चर्यचकित नहीं करती। संस्था में अब वे चीजें नहीं रही, जो वह 75 साल पहले थीं। स्पष्ट है कि इसके बदलाव के लिए बहुत कुछ किए जाने की जरूरत है।”

उन्होंने यह भी कहा, “ऐसे कई देश हैं, जहां पर राष्ट्रवाद को लेकर ज्यादा मुखरता है। कुछ मामलों में राष्ट्रवाद ज्यादा असुरक्षित है। तथ्य यह है कि जो राष्ट्र ज्यादा राष्ट्रवादी दिखता है, वह कम बहुपक्षीय होता है।’’ राष्ट्रवाद के सवाल पर उन्होंने कहा, “इस पर कोई सवाल ही नहीं उठता है कि दुनिया में राष्ट्रवाद का बोलबाला है। अमेरिका, चीन समेत दुनिया के कई देशों का इस पर जोर है। जाहिर है कि बड़े स्तर पर राष्ट्रवाद को स्वीकृति मिली है।”

बता दें कि अमेरिका के चार सीनेटरों ने भारत में धार्मिक स्वतंत्रता और कश्मीर में मानवाधिकार की स्थितियों पर रिपोर्ट की मांग की थी। सभी सीनेटरों ने 12 फरवरी को विदेश मंत्री माइक पोम्पियो को लिखी चिट्‌ठी में कहा था, “अभी भी सैंकड़ों कश्मीरी हिरासत में रखे गए हैं। भारत ने कश्मीर में अब तक का सबसे लंबा इंटरनेट शटडाउन लगाया है। राज्य की चिकित्सा सुविधाएं, कारोबार और शिक्षा पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है। करीब 70 लाख लोग इससे प्रभावित हुए हैं।” इन सीनेटरों में क्रिस वैन होलेन, टॉड यंग, रिचर्ड जे डर्बिन और लिंडसे ग्राहम शामिल थे।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन