Monday, October 18, 2021

 

 

 

अमेरिका, रूस और फ्रांस मिलकर आर्मेनिया के साथ खड़े: तुर्की राष्ट्रपति एर्दोगन

- Advertisement -
- Advertisement -

तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने कहा है कि ओएससीई मिन्स्क समूह के सह-अध्यक्ष – अमेरिका, रूस, फ्रांस मिलकर आर्मेनिया के साथ खड़े हुए है और ये सभी देश उसको हथियार का समर्थन” प्रदान करते हैं।

रविवार को दक्षिणपूर्वी सिरनाक प्रांत में गवर्निंग जस्टिस एंड डेवलपमेंट (एके) पार्टी की बैठक एर्दोगन ने प्रांतीय कांग्रेस में बोलते हुए कहा, “इराक, सीरिया, यहां तक कि बाल्कन में भी, और अब लीबिया और करबख में हमें क्या दिखाया गया है कि भेदभाव, अलगाववाद और छोटे-छोटे लाभों का पीछा करने से कुछ नहीं होता है।”

यूरोप में सुरक्षा और सहयोग संगठन (OSCE) मिन्स्क समूह का गठन 1992 में ऊपरी करबाख संघर्ष का शांतिपूर्ण समाधान खोजने के लिए किया गया था, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।

उन्होंने कहा, “हमारे अजरबैजान भाई इस समय अर्मेनिया के खिलाफ बहुत गंभीर संघर्ष में हैं। वे इस संघर्ष को क्यों लड़ रहे हैं? क्योंकि वे अजरबैजान से अजरबैजान की कब्जे वाली जमीनों को आजाद कराने के लिए लड़ रहे हैं,” उन्होंने कहा: “इससे ज्यादा स्वाभाविक क्या हो सकता है?”

एर्दोगन ने जोर देकर कहा कि अमेरिका, रूस और फ्रांस ने “इन वार्ताओं को समाप्त नहीं किया है।” 30 वर्षों से, और उन्हें अज़रबैजान के लोगों की भूमि उपलब्ध नहीं कराई है।

उन्होने कहा, “अब, अजरबैजान के भाई कब्जे वाले क्षेत्रों को आजाद कराने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। अल्लाह उनकी मदद करे। मुझे विश्वास है कि वे वापस ले लेंगे और अर्मेनियाई लोगों से कब्जे वाली जमीनों को मुक्त कराएंगे। और हम उनके लिए प्रार्थना करते हैं। आशा है कि वे इसे सफलतापूर्वक प्राप्त करेंगे।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles