खूंखार आतंकी संगठन ISIS के साथ कथित रिश्तों को लेकर अमेरिका पर पहले भी सवाल उठते आए है. लेकिन अब अहम सहयोगी देश क़तर ने भी सवाल खड़े कर दिए है.

क़तर के विदेश मंत्री मुहम्मद बिन अब्दुर्रहमान आले सानी ने मंगलवार को कहा कि ISIS के खिलाफ अमरीका के नेतृत्व वाले गठबंधन ने इस आतंकी संगठन के आर्थिक स्रोतों को ख़त्म करने के लिए कोई कोशिश नहीं की है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

कुवैत में अमरीका के नेतृत्व वाले ISIS विरोधी गठबंधन में शामिल देशों के विदेश मंत्रियों की बैठक में उन्होंने कहा, गठबंधन के कुछ क़दम एसे हैं जो आतंकवाद के असली कारणों और उसकी वास्तविक प्रक्रिया के बारे में सही समझ का प्रतिबिंबन नहीं करते.

70 देशों के प्रतिनिधियों की इस बैठक में क़तर के विदेश मंत्री ने कहा कि आतंकवाद के अलग अलग रूप अरब देशों तथा अन्य देशों के लिए वास्तविक ख़तरा हैं इस स्थिति को देखते हुए आतंकवाद के विरुद्ध संघर्ष और भी ज़रूरी प्रतीत होता है.

ध्यान रहे इससे पहले नाटो सदस्य तुर्की के राष्ट्रपति रजब तय्यब अर्दोग़ान भी आईएसआईएस के खिलाफ सीरिया में लड़ी जा रही अमेरिका की लड़ाई को लेकर कह चुके है कि इस सबंध उन्हें अमेरिका पर कोई भरोसा नहीं है.

Loading...