1057186 928628641

1057186 928628641

मिस्र की और से जेरुसलम पर संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद में पेश किये गए प्रस्ताव को अमेरिका पहले ही वीटो कर चूका है. ऐसे में अब तुर्की संयुक्त राष्ट्र की महासभा में वही प्रस्ताव ला रहा है.

इसी बीच अमेरिका ने सयुंक्त राष्ट्र और सदस्य देशों को धमकाना शुरू कर दिया है. सयुंक्त राष्ट्र में अमरीकी प्रतिनिधि निकी हेली ने कहा कि महासभा में अमरीकी राष्ट्रपति के फ़ैसले के ख़िलाफ़ मतदान करने वाले देशों की सूची डोनल्ड ट्रम्प के हवाले की जाएगी और फिर उन देशों के साथ अमरीका के संबंधों पर पुनर्विचार किया जाएगा.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

हेली ने कहा, “राष्ट्रपति इस वोट को ध्यान से देख रहे होंगे और उन्होंने अनुरोध किया है कि मैं उन देशों पर वापस रिपोर्ट चाहता हूं जिन्होंने हमारे खिलाफ मतदान किया.” उन्होने कहा, हम इस मुद्दे पर हर वोट का ध्यान रखेंगे.

ध्यान रहे इस्लामी सहयोग संगठन (ओआईसी) की ओर से तुर्की और यमन ने संयुक्त राष्ट्र महासभा की तत्काल बैठक बुलाई है. ये बैठक गुरुवार को होनी है. महासभा के प्रमुख ने मंगलवार को सभी 193 सदस्यों को संदेश भेजकर महासभा की अपात बैठक की सूचना दे दी है.

इस मामले में संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव अंटोनियो गुटेरस का कहना है कि बैतुल मुक़द्दस की अंतिम स्थिति संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद और महासभा के प्रस्तावों के आधार पर और क़ानूनी मांगों को दृष्टिगत रखा कर निर्धारित होनी चाहिए.

Loading...