वाशिंगटन | 7 मुस्लिम देशो के नागरिको को अमेरिका में प्रतिबंधित करने के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के फैसले पर , अमेरिका के एक जज ने रोक लगा दी है. अमेरिका के दो राज्य की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह रोक लगाई गयी. जज के फैसले के बाद अमेरिका के अटोर्नी जनरल ने प्रतिबंधित मुस्लिम देशो के नागरिको से कहा की वो अब अमेरिका में प्रवेश करने के लिए आवेदन कर सकते है.

सीएटल में अमेरिकी जिला जज जेम्स रोबर्ट ने यहाँ के दो राज्य वाशिंगटन और मिनेसोटा की याचिका पर फैसला सुनाते हुए कहा अमेरिका के राज्यों का रुख ट्रम्प के फैसले के प्रति चुनौतीपूर्ण है. इसलिए इस आदेश पर अस्थायी रोक लगाई जाती है. ट्रम्प के कुछ मुस्लिम देशो के नागरिको को अमेरिका में प्रतिबंधित करने के बाद देशभर में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसके अलावा हवाई अड्डो पर भी कई यात्रियों को रोक दिया गया जिससे वहां संसय की स्थिति पैदा हो गयी. ट्रम्प के फैसले के बाद वाशिंगटन पहला राज्य बना जिसने इस आदेश के खिलाफ अदालत में याचिका दाखिल की. करीब दो दिन बाद मिनेसोटा भी इस याचिका में शामिल हो गया. दोनों राज्यों ने इस याचिका के जरिये मांग की थी की ट्रम्प के आदेश पर राष्ट्रव्यापी रोक लगायी जाए.

जिला जज के फैसले के बाद अमेरिका के अटोर्नी जनरल बॉब फर्ग्यूसन ने सभी प्रतिबंधित देशो के नागरिको से अमेरिका में प्रवेश के लिए आवेदन करने को कहा है. इससे पहले फर्ग्युसन ने ट्रम्प के फैसले की आलोचना करते हुए कहा था की यह कदम भेदभाव को बढाता है और यात्रा करने वाले निवासियों को नुक्सान पहुंचाता है. उधर अमेरिका के आन्तरिक सुरक्षा मत्रालय ने जज के आदेश पर कोई प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया.

मालूम हो की डोनाल्ड ट्रम्प ने 7 मुस्लिम देश, इरान, ईराक, सूडान, यमन, लीबिया और सीरिया के नागरिको पर अमेरिका में प्रवेश करने को लेकर प्रतिबंध लगा दिया था. जिसके बाद इन देशो के करीब 60 हजार नागरिको को अपना वीजा रद्द कराना पड़ा.

Loading...