इराक के कार्यवाहक प्रधानमंत्री अदेल अब्दुल-मेहदी ने बृहस्पतिवार रात अमेरिका से कहा था कि वह अपने सैनिकों को वापस बुलाने की प्रक्रिया शुरू करने के लिये एक प्रतिनिधिमंडल इराक भेजे।

जिसके जवाब में अब अमेरिका ने कहा कि वह इराक से सैनिकों को वापस बुलाने के अनुरोध पर चर्चा नहीं करेगा। इराक में इस वक्त अमेरिका के 5,200 सैनिक तैनात हैं।इन सैनिकों को वापस भेजने का प्रस्ताव हाल ही में इराक की संसद ने पारित किया है।

अमेरिकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मोर्गन ओर्टेगस ने कहा, ”इस समय, अगर कोई प्रतिनिधिमंडल को इराक भेजा जाता है तो उसका मकसद सैनिकों की वापसी पर चर्चा करने के बजाय सामरिक साझेदारी को मजबूत बनाना होगा। हमारी कोशिश है कि मध्यपूर्व में पर्याप्त मात्रा में सुरक्षा बल तैनात रहें।’’

महदी ने हाल ही में अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो को फोन कर प्रतिनिधिमंडल भेजने के लिए समय मांगा था। इस प्रतिनिधिमंडल को अमेरिकी सैनिकों की इराक से सुरक्षित वापसी की रूपरेखा पर वार्ता करनी थी।

उन्होंने पोम्पिओ से यह भी कहा था कि इराक में अमेरिका के हालिया हवाई ह*मले इराकी संप्रभुता और दोनों देशों के बीच सुरक्षा समझौतों का उल्लंघन है, जिसके स्वीकार नहीं किया जा सकता। बयान में कहा गया है, ”प्रधानमंत्री ने कहा कि अमेरिकी बलों का इराक में प्रवेश और इराकी अधिकारियों की अनुमति के बिना उसके हवाई क्षेत्र में ड्रोन उड़ाना द्विपक्षीय समझौतों का उल्लंघन है।”

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन