Friday, July 30, 2021

 

 

 

ईरान को धम’काने के लिए मध्यपूर्व में यूएस ने तैनात किया विमानवाहक पोत

- Advertisement -
- Advertisement -

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने कहा कि ट्रंप प्रशासन ‘ईरान पर सामान्य राष्ट्र की व्यवहार करने के लिए’ दबाव बढ़ा रहा है। पोम्पिओ ने पश्चिम एशिया में युद्धपोत तैनात करने के ट्रंप प्रशासन के फैसले के बाद फिनलैंड में सोमवार को संवाददाताओं से बात की।

अमेरिका का कहना है कि उसने ईरान या उसके सहयोगियों की ओर से अमेरिका पर संभावित हमले के जवाब में यह युद्धपोत तैनात किया है।  पोम्पिओ ने कहा कि इन कदमों के जरिए ईरान की कई गतिविधियों पर रोक‍ लगाने का प्रयास किया गया है।

उन्होंने कहा कि अमेरिका का कहना है कि ईरान की इन गतिविधियों में उन आतंकवादी संगठनों को प्रायोजित करना शामिल है जो इजराइल पर मिसाइल हमले करते हैं या यमन के गृह युद्ध में विद्रोहियों की मदद करने के लिए मिसाइल प्रणाली विकसित करते हैं।  उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य है कि ईरान इस्लामिक गणराज्य एक सामान्य राष्ट्र की तरह बर्ताव करे। पोम्पिओ ने कहा, ‘वे जब ऐसा कर लेगें तो हम उनका फिर से स्वागत करेंगे।’

pom

वहीं अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने चेतावनी दी है कि अमेरिका ईरान को ‘स्पष्ट’ संदेश भेजने के लिए पश्चिम एशिया में ‘यूएसएस अब्राहम लिंकन करियर स्ट्राइक ग्रुप’ और एक बमवर्षक कार्य बल तैनात कर रहा है कि अमेरिकी हितों या उसके सहयोगियों पर हर हमले से ‘निर्ममता’ के साथ निपटा जाएगा।

बोल्टन ने रविवार को कहा कि ईरान से मिले कई ‘परेशान करने वाले और तनाव बढ़ाने वाले संकेतों एवं चेतावनियों’ के जवाब में पश्चिम एशिया में ‘यूएसएस अब्राहम लिंकन करियर स्ट्राइक ग्रुप’ और एक बमवर्षक कार्य बल तैनात करने का निर्णय लिया गया है।

उन्होंने एक बयान में कहा, ‘अमेरिका ईरानी शासन के साथ युद्ध नहीं चाहता, लेकिन हम किसी भी हमले का जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार हैं, भले ही वह छद्म हो, इस्लामिक रेवल्यूशनरी गार्ड कोर या फिर ईरानी बलों का हमला हो।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles