Monday, August 2, 2021

 

 

 

चीन के बाद अमेरिका बन सकता है कोरोनावायरस का सेंटर: डब्ल्यूएचओ

- Advertisement -
- Advertisement -

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मंगलवार को कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका कोरोनोवायरस महामारी का वैश्विक केंद्र बन सकता।चीन के बाद अब संयुक्त राज्य अमेरिका में स्थिति भयानक होने की उम्मीद है।

रायटर्स टैली के अनुसार, दुनिया भर में 194 देशों और क्षेत्रों में 377,000 से अधिक कोरोनोवायरस मामलों की पुष्टि हुई, जिनमें से 16,500 से अधिक घातक थे। जिनेवा में, डब्ल्यूएचओ के प्रवक्ता मार्गरेट हैरिस ने पत्रकारों को बताया कि संयुक्त राज्य अमेरिका में संक्रमण “बहुत तेज” था। पिछले 24 घंटों में, 85 प्रतिशत नए मामले यूरोप और संयुक्त राज्य अमेरिका में थे, और उनमें से 40 प्रतिशत संयुक्त राज्य में थे।

सोमवार तक, वायरस ने वहां 42,000 से अधिक लोगों को संक्रमित किया था, जिसमें कम से कम 559 लोग मा’रे गए थे। यह पूछे जाने पर कि क्या अमेरिका नया उपरिकेंद्र बन सकता है, हैरिस ने कहा: “हम अब अमेरिका में मामलों में एक बहुत बड़े त्वरण को देख रहे हैं, इसलिए इसमें वह क्षमता है।”

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कठिनाई को स्वीकार किया। उन्होने कहा, “फेस मास्क और वेंटिलेटर के लिए विश्व बाजार पागल है। हम राज्यों को उपकरण प्राप्त करने में मदद कर रहे हैं, लेकिन यह आसान नहीं है।

मामले की संख्या के आधार पर शीर्ष 10 देशों में, इटली ने सबसे अधिक घातक मृ’त्यु दर की रिपोर्ट की है, जो लगभग 10% है, जो कम से कम आंशिक रूप से उनकी पुरानी आबादी को दर्शाता है। विश्व स्तर पर घातक दर – पुष्टि की गई मौ’तों का अनुपात – लगभग 4.3% है, हालांकि परीक्षण किए जाने के अनुसार राष्ट्रीय आंकड़े व्यापक रूप से भिन्न हो सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles