अमेरिका की संसद ने उइगर मानवाधिकार नीति विधेयक पारित किया है। इस विधेयक में अमेरिका द्वारा चीन में नजरबंद कर रखे गए 10,00,000 उइगर मुस्लिमों और अन्य मुस्लिम अल्पसंख्यकों तक संसाधनों को पहुंचाने का प्रस्ताव दिया गया है।

बिल पर रिपब्लिकन नेता केविन मैकार्थी ने कहा, उइगरों का उत्पीड़न मानवाधिकार का घोर उल्लंघन है। इस बिल को पारित करके संसद ने दिखा दिया कि अमेरिका उइगरों के उत्पीड़न से मुंह नहीं मोड़ेगा। इससे पहले हमने हांगकांग लोकतंत्र एवं मानवाधिकार कानून बनाकर चीन की कम्युनिस्ट पार्टी को मजबूत संदेश दिया था। हमारा मानना है कि लोगों के अधिकारों को कुचलकर सत्ता को कायम नहीं रखा जा सकता। सीनेट की विदेश मामलों से संबंधित समिति के सदस्य मार्को रूबियो और बॉब मेंडेज ने बताया कि यह विधेयक शिनजियांग उइगर स्वायत्त क्षेत्र में चीन सरकार द्वारा किए जा रहे मानव अधिकारों के हनन का मुकाबला करेगा।

बिल अमेरिका के विभिन्न सरकारी विभागों को निर्देश देता है कि वह उइगरों के खिलाफ चीन द्वारा किए जा रहे उत्पीड़न पर रिपोर्ट तैयार करें। बिल में शिनजियांग प्रांत में चल रहे हिरासत शिविरों के लिए जिम्मेदार नेताओं और अधिकारियों पर प्रतिबंध लगाने की भी मांग की गई है। जिन नेताओं पर प्रतिबंध की सिफारिश की गई है, उनमें शिनजियांग कम्युनिस्ट पार्टी के सचिव चेन कुआंग का नाम भी है। वह कम्युनिस्ट पार्टी के पोलित ब्यूरो के सदस्य हैं।

chinaa

प्रतिनिधि सभा द्वारा उठाए गए इस कदम पर चीन ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। चीन के सरकारी विभागों ने बुधवार को इस विधेयक की कड़ी आलोचना करते हुए बयान जारी किया। अमेरिका के इस कदम को चीन के आंतरिक मामले में दखल देने का उदाहरण बताया गया है।  चीन की संसद के विदेश मामलों के आयोग ने कहा कि अमेरिका ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई और शिनजियांग में मानवाधिकार को सुरक्षित करने के चीन के कदमों की तरफ आंख बंद कर लिया है।

चीन में उइगर समुदाय को हिरासत में लेने, प्रताड़ित करने और उत्पीड़न को खत्म करने की अपील करने वाले इस विधेयक को इससे पूर्व सीनेट ने पारित किया था। प्रतिनिधि सभा में रिपब्लिकन नेता केविन मैककार्थी ने कहा कि यह विधेयक पारित कर संसद दिखाना चाहती है कि वह दबे-कुचले लोगों की पीड़ा को अनदेखा नहीं करेगी।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन