Saturday, July 31, 2021

 

 

 

पाकिस्तान में ठिकाना बनाकर भी अफगान युद्ध को नहीं जीत सकता अमेरिका: इमरान खान

- Advertisement -
- Advertisement -

पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान ने कहा कि अमेरिका पड़ोसी अफगानिस्तान में युद्ध नहीं जीत सकता, भले ही इस्लामाबाद आतंकवाद विरोधी अभियानों के लिए वाशिंगटन को ठिकाने उपलब्ध कराने के लिए सहमत हो जाए।

खान ने कहा कि अगर पाकिस्तान अमेरिका की मांग के आगे झुकता है, तो उसे फिर से “आतंकवादियों” द्वारा बदला लेने के लिए निशाना बनाया जाएगा और संघर्ष-ग्रस्त देश में राजनीतिक समझौता करने के बजाय गृहयु’द्ध छिड़ जाएगा।

उन्होंने सोमवार को वाशिंगटन पोस्ट के लिए लिखे एक लेख में कहा कि “अमेरिकी प्रयास में शामिल होने के बाद, पाकिस्तान को एक सहयोगी के रूप में निशाना बनाया गया, जिससे तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान और अन्य समूहों ने हमारे देश के खिलाफ आतंकवा’द छेड़ दिया।

इमरान खान ने कहा कि अमेरिकी ड्रोन हमले के खिलाफ मैंने भी चेतावनी दी थी, युद्ध तो नहीं गया, लेकिन उन्होंने अमेरिकियों के लिए नफरत पैदा की। हम इसे बर्दाश्त नहीं कर सकते। हमने पहले ही बहुत भारी कीमत चुकाई है।

उन्होंने तर्क दिया, अगर अमेरिका, इतिहास की सबसे शक्तिशाली सैन्य मशीन के साथ, 20 साल बाद अफगानिस्तान के अंदर से युद्ध नहीं जीत सका, तो हमारे देश में ठिकाने बनाकर वह कैसे जीतेगा?” इस्लामाबाद पहले ही अमेरिका को आतं’कवा’द विरोधी अभियान अपनी जमीन से चलाने की अनुमति देने से इनकार कर चुका है।

उन्होंने लिखा, “पाकिस्तान अमेरिका के साथ अफगानिस्तान में शांति के लिए भागीदार बनने के लिए तैयार है। लेकिन जैसे ही अमेरिकी सैनिक हटेंगे, हम आगे संघर्ष का जोखिम उठाने से बचेंगे।” खान ने कहा: “70,000 से अधिक पाकिस्तानी मा’रे गए हैं। जबकि अमेरिका ने सहायता में $ 20 बिलियन प्रदान किए, पाकिस्तानी अर्थव्यवस्था को $ 150 बिलियन से अधिक नुकसान  हो गया। पर्यटन और निवेश खत्म हो गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles