aq15

aq15

इस्लाम धर्म के तीसरे सबसे पवित्र शहर अल-कुद्स यानि जेरुसलम को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा यहूदियों को सौंपे जाने की कोशिश से मुस्लिम दुनिया भड़क उठी.

ट्रम्प के जेरुसलम को इजरायल की राजधानी के रूप में मान्यता देने और अमेरिकी दूतावास को तेलअवीव से जेरुसलम शिफ्ट करने को लेकर मुस्लिम देशों ने विरोध जताने के बाद अब अमेरिकी राजदूतों को तलब कर लताड़ना शुरू कर दिया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

स्पूतनिक समाचार एजेन्सी की रिपोर्ट के अनुसार ट्यूनीशिया की सरकार ने शुक्रवार को अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प के बयान पर आपत्ति जताते हुए अमरीकी राजदूत को विदेशमंत्रालय में तलब किया और उन्हें आपत्ति पत्र सौंपा.

ट्यूनीशिया के विदेशमंत्रालय ने एक बयान जारी करके बैतुल मुक़द्दस को इस्राईल की राजधानी क़रार देने के ट्रम्प के फ़ैसले का विरोध करते हुए कहा कि ट्रम्प का यह फ़ैसला, बैतुल मक़द्दस की क़ानूनी और एेतिहासिक हैसियत पर हमला और अंतर्राष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन है.

इराक़ के विदेशमंत्रालय ने भी बग़दाद में तैनात अमरीकी राजदूत को तलब करके ट्रम्प के फ़ैसले का विरोध किया और कहा कि बैतुल मुक़द्दस समस्त मुसलमानों और फ़िलिस्तीनियों का है. इसके अलावा भी कई देशों ने अमेरिकी दूतावास को तलब किया है.

Loading...