पनामा: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के लगातार आ रहे विवादों से परेशान पनामा में अमेरिका के राजदूत जॉन फिली ने ये कहते हुए अपना इस्तीफा दे दिया कि वे अब ट्रंप के लिए और काम नहीं कर सकते.

उन्होंने एक पत्र में लिखा, ‘एक जूनियर विदेश सेवा अधिकारी के तौर पर मैंने राष्ट्रपति और उनके प्रशासन के प्रति आज्ञाकारी रहने और गैर राजनीतिक रहने की शपथ ली थी. भले ही मैं कुछ पॉलिसी से सहमत नहीं हूं. मेरे प्रशिक्षकों ने स्पष्ट किया कि अगर मुझे लगता है कि मैं यह नहीं कर पा रहा हूं, तो मुझे इस्तीफा दे देना चाहिए.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

नौसेना में रह चुके जॉन वर्ष 2016 से पनामा के राजदूत का पद संभाल रहे थे. अमेरिकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्‍ता ने भी जॉन फीली के इस्‍तीफे की पुष्टि कर दी है. उन्‍होंने कहा, ‘जॉन ने व्‍हाइट हाउस, विदेश विभाग और पनामा सरकार को इसकी सूचना दे दी है.’

वहीँ दूसरी और अफ्रीकी देशों के बारें विवादास्पद बयान देने को लेकर अफ्रीकी देशों के एक ग्रुप ने मांग की कि ट्रंप अपना बयान वापस लें और माफी मांगे. सयुंक्त राष्ट्र में अफ्रीकी राजदूतों के एक ग्रुप ने कहा कि वे इस उनको नीचा दिखाने और लोगों की निंदा कर अफ्रीका और वहां के लोगों के प्रति अमेरिकी प्रशासन के रवैये से चिंतित हैं.

बता दें कि ट्रंप ने हैती और अफ्रीकी देशों के इमिग्रेंट्स को डिफेंड करने के कुछ अमेरिकी सांसदों की कोशिश को लेकर निराशा जाहिर करते हुए पूछा कि अमेरिका को इन ‘मलिन’ (शिटहोल) देशों के नागरिकों को क्यों स्वीकार करना चाहिए.

Loading...