cox

cox

बांग्लादेश के शरणार्थी कैंपो में रह रहे रोहिंग्या मुसलमानों की दयनीय स्थिति पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि रोहिंग्यों को तत्काल मदद की जरुरत है वरना हालात बदतर हो सकते है.

बांग्लादेश-म्यांमार सीमा पर रोहिंग्या मुसलमानों के शरणार्थी शिविर का दौरा करने वाले यूनीसेफ़ के एक अधिकारी ने रविवार को बताया कि लगभग 90 प्रतिशत रोहिंग्या शरणार्थी कुपोषण का शिकार हैं और अत्यंत दुर्दशा में जीवन बिता रहे हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अधिकारी ने बताया कि रोहिंग्या शरणार्थी 24 घंटे में केवल एक बार खाने खाते हैं और लगभग डेढ़ लाख बच्चों और महिलाओं को कुपोषण की स्थिति से बाहर निकलने  लिए तुरंत मदद की ज़रूरत है.

वहीँ दूसरी और अब भी म्यांमार में लगातार हिंसा जारी है. एक लाख के करीब रोहिंग्या मुस्लमान बांग्लादेश में प्रवेश करने का इंतजार कर रहे है.

ध्यान रहे बांग्लादेश में वर्तमान में चार लाख से अधिक रोहिंग्या शरणार्थी मौजूद है. हालांकि प्रधानमंत्री शेख हसीना ने हर संभव मदद करने का वादा किया है.

Loading...