यूनिसेफ ने बताया बच्चों के लिए नूडल्स को हानिकारक, दिया ये सुझाव

11:18 am Published by:-Hindi News

संयुक्त राष्ट्र की बाल एजेंसी यूनीसेफ की एक रिपोर्ट के मुताबिक दक्षिण पूर्व एशिया में लाखों बच्चे इंस्टेंट नूडल्स जैसे आधुनिक खानपान की वजह से बच्चे कुपोषित हैं। इंडोनेशिया में सार्वजनिक स्वास्थ्य के एक विशेषज्ञ ने कहा, “मां बाप को लगता है कि बच्चे का पेट भरना सबसे जरूरी है। वो प्रोटीन, कैल्शियम और फाइबर के बारे में सचमुच नहीं सोचते।”

रिपोर्ट के अनुसार, इंडोनेशिया में पिछले साल दो करोड़ 44 लाख बच्चे, फिलीपींस में एक करोड़ 10 लाख और मलेशिया में 26 लाख बच्चे पांच साल से कम उम्र के थे। यूनिसेफ की एशिया पोषण विशेषज्ञ मुएनी मुटुंगा ने समस्या के मूल में परिवारों का किफायती, आसानी से उपलब्ध आधुनिक भोजन के लिए परंपरागत आहार को छोड़ना पाया।

उन्होंने कहा, ‘नूडल्स बनाना आसान है। ये सस्ते होते हैं. नूडल्स एक संतुलित आहार के आसान और त्वरित पूरक बन जाते हैं।’ मुटुंगा ने समाचार एजेंसी एएफपी से बातचीत में में कहा, नूडल का एक पैकेट मनीला (फिलीपींस की राजधानी) में 23 अमेरिकी सेंट की कम कीमत में मिल जाता है, जबकि इनमें आयरन जैसे जरूरी पोषक तत्वों की मात्रा बहुत कम होती है। इनमें प्रोटीन भी नहीं होता, वहीं उच्च मात्रा में वसा और नमक पाया जाता है।

यूनीसेफ का कहना है कि बच्चों के स्वास्थ्य में नुकसान उनकी पहले की कमियों के साथ ही इस बात का भी संकेत है कि भविष्य में उन्हें परेशानी होगी। आयरन जैसे तत्वों की कमी बच्चों की सीखने की क्षमता को प्रभावित करेगी तो महिलाओं के लिए यह गर्भधारण और बच्चे के जन्म के तुरंत बाद मौत का कारण भी बन सकती है।

यूनिसेफ की रिपोर्ट बताती है कि फल, सब्जियां, अंडे, दूध और उससे बनी चीजें, मछली और मांस लोगों की प्लेट से गायब हो रही हैं।  इसकी एक वजह यह बताई गई है कि लोग काम की तलाश में गांव छोड़ शहरों का रुख कर रहे हैं।

विशेषज्ञों के अनुसार, इन देशों में चीनी से भरपूर बिस्कुट, पेय पदार्थ और फास्ट फूड की वजह से भी समस्याएं बढ़ रही हैं। उनका कहना है कि दक्षिण-पूर्व एशिया में लोगों के दैनिक जीवन और स्वास्थ्य पर इंस्टेंट नूडल्स के पड़ने वाले प्रभाव को तुरंत कम करने के लिए सरकारी हस्तक्षेप की जरूरत पड़ेगी।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें