म्यांमार सेना द्वारा चलाए जा रहे रोहिंग्या मुस्लिमों के जातीय सफायें के चलते जेलों में सेकड़ों बच्चें जेलों में बंद किये हुए हैं. जिनसे मुलाकात के बाद यूनिसेफ के अधिकारियों ने उन्हें छोड़ने को कहा हैं.

यूनीसेफ के असिस्टेंट डाइरेक्टर ने बताया, म्यांमार की यात्रा ्के दौरान मैंने फौजी कार्यवाहियों के दौरान गिरफ़्तार किये गए रोहिंग्या बच्चों से जेल में मुलाक़ात की. जैस्टीन फोरसेट ने बताया कि इन बच्चों के बारे में जानकारी उन्होंने आंग-सांग-सूची को भी उपलब्ध कराई है.

राख़ीन प्रांत के उत्तरी क्षेत्र में सेना द्वारा चलाई गई मुसलमानों के विरुद्ध कार्यवाही में कम से कम 600 रोहिंग्या मुसलमानों को गिरफ़्तार किया था जिनमें बड़ी संख्या में बच्चे भी थे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

संयुक्त राष्ट्रसंघ इससे पहले भी म्यंमार के रोहिंग्या मुसलमानों की समस्याओं के समाधान के लिए म्यांमार की सरकार से अनुरोध कर चुका है.

Loading...