hamas

इजरायल के खिलाफ हमास के रॉकेट हमलों की निंदा करने के लिए लाए गए अमेरिका का प्रस्ताव संयुक्त राष्ट्र महासभा में जरूरी दो-तिहाई बहुमत हासिल नहीं कर पाने के कारण खारिज हो गया।

जानकारी के अनुसार हमास के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पर मतदान में 57 के मुकाबले 87 वोट ही मिले जो जरूरी दो-तिहाई बहुमत से कम हैं। वहीं, 32 ने मतदान से दूरी बनाए रखी, जिसके परिणामस्वरूप मसौदा संयुक्त राष्ट्र महासभा में जरूर दो तिहाई बहुमत जीतने में नाकाम रहा। भारत उन 32 देशों में शामिल है जिन्होंने प्रस्ताव पर मतदान में भाग नहीं लिया।

प्रस्ताव में कहा गया था कि गाजा में हालात को शांत करने के प्रयासों के लिए संयुक्त राष्ट्र महासचिव और पश्चिम एशिया की शांति प्रक्रिया के लिए संयुक्त राष्ट्र के विशेष समन्वयक के और अधिक प्रयासों की जरूरत है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस प्रस्ताव के खिलाफ सभी सभी अरब देशों ने खिलाफ मतदान किया। संयुक्त राष्ट्र महासभा ने फिलीस्तीन सरकार के एक प्रस्ताव पर भी मतदान किया, जिसमें इजरायली बस्तियों की निंदा की गई थी और भावी शांति समझौते के मानकों का उल्लेख था। इस प्रस्ताव को पारित कर दिया गया है। इसके खिलाफ केवल छह वोट पड़े थे।

बता दें कि इससे पहले जेरूसलम को इजरायल की राजधानी घोषित करने के लिए लाए गए प्रस्ताव पर भी अमेरिका को मुंह की खानी पड़ी थी।

Loading...