बांग्लादेश में अस्थायी क्लीनिकों के तहत इलाज कर रहे संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के डॉक्टरों ने पश्चिमी म्यांमार से आने वाले रोहिंग्या मुस्लिम महिलाओं के साथ हुए बलात्कार और भयावह यौन शोषण के बारें में सूचना दी है.

रोहिंग्या मुसलमानों के इलाज करने वाले डॉक्टरों ने हिंसात्मक यौन हमलों के दर्जनों मामलों का अनुसमर्थन किया, साथ ही महिलाओं के खिलाफ आग्नेयास्त्रों के इस्तेमाल की भी पुष्टि की.

इंटरनेशनल ऑर्गनाइजेशन फॉर माइग्रेशन (आईओएम) के मेडिकल ऑफिसर तसुनुबा नॉरिन ने कहा कि उन्होंने कम से कम पांच महिलाओं का इलाज किया जिनका हाल ही में बलात्कार किया गया. उन्होंने कहा कि इन सभी की शारीरिक चोटें बलात्कार के अनुरूप है. हालाँकि म्यांमार की सरकार ने अपने सैनिकों द्वारा बलात्कार के आरोपों को स्पष्ट रूप से अस्वीकार कर दिया है.

इस बीच, बांग्लादेश में सरकार ने रोहिंग्या मुस्लिम शरणार्थियों को मोबाइल फोन कनेक्शन बेचने से दूरसंचार कंपनियों पर प्रतिबंध लगा दिया है.

बांग्लादेशी दूरसंचार मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी इनायत हुसैन ने रविवार को एएफपी को बताया, कुछ समय के लिए, वे किसी भी सिम कार्ड को नहीं खरीद सकते हैं.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?