दुबई: एक पाकिस्तानी युवक की हत्या में 10 भारतियों को मिली फांसी का सजा को माफ़ कर दिया गया हैं. फांसी की सज़ा मारे गए पाकिस्तानी के युवक के परिजनों की और से माफ़ी दिए जाने के बाद माफ़ की गई हैं. भारत के पंजाब रहने वाले ये सभी पाकिस्तानी युवक की हत्या के दोषी थे.

पाकिस्तान के पेशावर के रहने वाले मृतक मोहम्मद फरहान के पिता मोहम्मद रियाज ने हत्यारों को माफ करने का फैसला लेने के बाद 27 फरवरी को अदालत में माफ़ी के दस्तावेज जमा किये गए थे. ये सभी दस्तावेज संयुक्त अरब अमीरात के विदेश विभाग और न्याय विभाग की ओर से तसदीक कराके अदालत को सौंपा गए थे. जिसके बाद अदालत ने सजा की माफ़ी का फैसला सुनाया.

सज़ा की माफ़ी के कागजों पर हस्ताक्षर करने के बाद मृतक के पिता मोहम्मद रियाज ने कहा कि ‘मैंने अपने बेटे को खो दिया यह मेरा दुर्भाग्य था. अगर मैं इन लोगों को माफ नहीं करता तो क्या होता? युवा पीढ़ी से अपील करता हूं कि वे ऐसे झगड़े न करें, अपने काम से काम रखें और अपने देश और माता पिता का नाम रोशन करें.’

युवा पीढ़ी को संदेश देते हुए मोहम्मद रियाज ने कहा, कि ‘मैंने इन दस लोगों को माफ कर दिया और उनकी जीवन अल्लाह ने बचाई है, मेरा तो बस नाम है. यहां आने वाले प्रत्येक व्यक्ति के साथ दस लोगों की जान जुड़ी होती हैं, उनके माता-पिता, पत्नी और बच्चों की‘

हालांकि अभी इन 10 पंजाबियों को जेल में रहना पड़ सकता है, क्योंकि इन पर गैरकानूनी तौर पर शराब बेचने का केस भी चल रहा है। इस मामले में 12 अप्रैल को अगली सुनवाई रखी गई है. जिन नौजवानों की फांसी की सजा माफ हुई उनमें मोहाली के हरजिंदर सिंह, बरनाला के सतमिंदर सिंह, नवांशहर के चंद्रशेखर, मालेरकोटला के चमकौर सिंह, लुधियाना के कुलविंदर सिंह और बलविंदर सिंह चलांग, समराला के धर्मवीर सिंह, अमृतसर के तरसेम सिंह, पटियाला के गुरप्रीत सिंह और गुरदासपुर के जगजीत सिंह शामिल हैं.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?