संयुक्त अरब अमीरात ने 2020 में फिलिस्तीनी शरणार्थियों के लिए यू.एन. एजेंसी के लिए अपनी धनराशि को बहुत कम कर दिया, जिस वर्ष उसने इजरायल के साथ सामान्यीकरण समझौते पर हस्ताक्षर किए, जिसकी फिलिस्तीनी प्राधिकरण ने भारी आलोचना की थी।

UNRWA के नाम से जानी जाने वाली एजेंसी मध्य पूर्व के कुछ 5.7 मिलियन पंजीकृत फिलिस्तीनी शरणार्थियों को शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और अन्य महत्वपूर्ण सेवाएं प्रदान करती है, मुख्य रूप से 700,000 फिलिस्तीनियों के वंशज हैं जो 19 वीं शताब्दी के युद्ध के दौरान इज़राइल द्वारा भागा दिये गए थे या बाहर निकाल दिये गए थे।

यूएई ने 2018 में और फिर 2019 में यूएनआरडब्ल्यूए को $ 51.8 मिलियन का दान दिया, लेकिन 2020 में इसने एजेंसी को सिर्फ 1 मिलियन डॉलर दिए। ये जानकारी एजेंसी के प्रवक्ता सामी मशाशा ने शुक्रवार को दी।

उन्होंने कहा, “हम वास्तव में उम्मीद कर रहे हैं कि 2021 में वे पिछले वर्षों के स्तरों पर वापस जाएंगे।” इस मामले में अब तक अमीराती अधिकारियों ने तुरंत प्रतिक्रिया नहीं दी।

बता दें कि पिछले साल संयुक्त अरब अमीरात ने इजरायल के साथ संबंधों को सामान्य किया। बहरीन, सूडान और मोरक्को ने कुछ ही समय बाद इसी तरह के समझौते किए। हालांकि, फिलिस्तीनी प्राधिकरण ने समझौतों को एक विश्वासघात के रूप में देखा और यूएई की कठोर आलोचना की।

ट्रम्प प्रशासन ने भी 2018 में UNRWA को सभी फंडिंग काट दी थी। अमेरिका ने पहले एजेंसी को एक साल में $ 360 मिलियन दिए थे।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano