5a2ded0b1900001700035932

5a2ded0b1900001700035932

इस्लाम धर्म के तीसरे सबसे पवित्र शहर अल-कुद्स यानि जेरुसलम को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा इजरायल को सौंपे जाने की साजिश के खिलाफ पूरी दुनिया एकजुट हो चुकी है.

सोमवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के हर सदस्य ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के उस फैसले की निंदा की है, जिसमे वे यरूशलेम को इजरायल की राजधानी मानते हैं. संयुक्त वक्तव्य में, यूनाइटेड किंगडम, स्वीडन, जर्मनी, इटली और फ्रांस के राजदूत ने कहा कि ट्रम्प के कार्य “सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के अनुरूप नहीं है और इस क्षेत्र में शांति की संभावना के संदर्भ में बेकार है.

अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ने यरूशलेम को इजरायल की राजधानी के रूप में मान्यता नहीं देने से मना कर दिया है क्योंकि फिलिस्तीनी नेतृत्व ने शहर पर दावा किया है. इन देशों को डर है कि जब भी पवित्र शहर की बात आती है, तो इस्राएल के रुख के खिलाफ अधिक हिंसा का कारण उत्पन्न होता है और शांति के लिए एक बाधा पेश आती है.

स्वीडन के राजदूत ओलोफ़ स्कोग ने कहा कि “संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति द्वारा दिए गए बयान संयुक्त राज्य अमेरिका और इज़राइल के कई मित्रों की याचिका के खिलाफ है.”

मिस्र के राजदूत ने कहा कि ट्रम्प का निर्णय “एक खतरनाक मिसाल है.” उन्होंने कहा, “यह सुरक्षा परिषद के संकल्प हैं.” संयुक्त राष्ट्र के संकल्प “कानून हैं जो यरूशलेम की स्थिति को नियंत्रित करते है सभी देशों ने यू.एन. चार्टर के अनुसार, इसे लागू करने और पालन करने के लिए वचन दिया हुआ है.”

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?