तुर्की और नीदरलैंड के बीच तेजी से रिश्तें बिगड़ते ही जा रहे हैं. दोनों नाटो सदस्य के बीच तनाव तब शुरू हुआ, जब नीदरलैंड ने तुर्की विदेशमंत्री के विमान को नीदरलैंड में उतरने से मना कर दिया. साथ ही तुर्की की परिवार कल्याण मंत्री को गिरफ्तार कर उन्हें नीदरलैंड से निष्कासित कर दिया गया.

दरअसल शनिवार को तुर्की के विदेश मंत्री मौलूद चावुश ओग़लू एक सभा में भाषण के लिए हाॅलेंड के रोट्रेडम शहर जाने वाले थे. वे तुर्की के संविधान में परिवर्तन के बारे में हाॅलेंड में रह रहे तुर्क नागरिकों के बीच भाषण देना चाहते थे. इसके अलावा नीदरलैंड्स पुलिस ने तुर्की की परिवार कल्याण मंत्री फातमा बेतुल सयान काया को शनिवार को रॉटरडम में गिरफ्तार कर उन्हें जर्मनी ले जाकर छोड़ दिया. फातमा भी रॉटरडम में रेफरेंडम के पक्ष में रैली करने गई थीं.

नीदरलैंड की इस हरकत के जवाब में तुर्की ने अपने देश में नीदरलैंड के राजदूत के राजदूत के प्रवेश करने पर रोक लगा दी हैं. इसके साथ ही नीदरलैंड के साथ सभी उच्चस्तरीय संबंध भी स्थगित कर दिए. तुर्की के उपप्रधानमंत्री नुमान कुर्तुलमस ने कहा है कि उनका देश नीदरलैंड के राजदूत को तुर्की वापस नहीं आने देगा और इसके साथ ही उच्चस्तरीय बैठकों को भी तब तक के लिये स्थगित किया जाता है जब तक नीदरलैंड जनमत संग्रह से पहले विदेश में रैलियां आयोजन करने की तुर्की की शर्तों पर सहमत नहीं हो जाता.

वहीँ राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोगान ने नीदरलैंड में 1995 पर बोस्निया हरसीगोवीना के शहर सरेबरीनतसा में मुस्लिम पुरुषों और लड़कों के नरसंहार का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि ‘विफलता अभी भी नीदरलैंड की नसों पर सवार है जिससे पता चलता है कि नीदरलैंड की नैतिकता टूट चुकी है.

एर्दोगन ने नीदरलैंड्स को चेतावनी देते हुए कहा ‘नीदरलैंड्स बनाना रिपब्लिक’ की तरह बर्ताव कर रहा है और तुर्की के मंत्रियों को रैली करने से रोकने का उन्हें खामियाजा भुगतना होगा. एर्दोगन ने कहा, नाजीवाद अभी भी पश्चिम में खूब फैला हुआ है और नीदरलैंड्स द्वारा तुर्की के मंत्रियों के साथ किया गया व्यवहार नाजीवाद, फासीवाद ही है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?