इस्तांबुल के प्रतिष्ठित हागिया सोफिया में मोज़ेक को मुस्लिम इबादत के दौरान पर्दे या लेज़रों द्वारा कवर किया जाएगा, तुर्की के गवर्निंग जस्टिस एंड डेवलपमेंट पार्टी (एके पार्टी) के प्रवक्ता ने ये जानकारी दी है।

एके पार्टी के ओमर सेलिक ने सोमवार को कहा, ईसाई प्रतीकों को अन्य समय में सभी आगंतुकों के लिए खुला खुला रखा जाएगा, और सभी का प्रवेश नि: शुल्क होगा। बता दें कि तुर्की की एक अदालत ने पिछले हफ्ते फैसला दिया था कि 1934 में छठी शताब्दी के बीजान्टिन स्थल को एक संग्रहालय में बदलना गैरकानूनी था।

इस कदम ने अंतरराष्ट्रीय आलोचना और चिंता को दूर किया, जिसमें ग्रीस, संयुक्त राज्य अमेरिका और रूस के साथ-साथ यूनेस्को भी शामिल है, जो अब संरचना की विश्व विरासत स्थल की स्थिति की समीक्षा कर रहा है।

राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने इमारत को मस्जिद घोषित किया और कहा कि दो सप्ताह के भीतर पहली नमाज अदा की जाएंगी। वहीं तुर्की के विदेश मंत्री मेवलुत कैवसोग्लू ने कहा कि अंकारा यूनेस्को की प्रतिक्रिया से हैरान था और इससे हागिया सोफिया के बारे में और कदम उठाने का पता चलेगा, जो कि ओटोमनस द्वारा मस्जिद में जाने से पहले नौ शताब्दियों के लिए एक बीजान्टिन चर्च था।

तुर्की अपने ऐतिहासिक चरित्र की रक्षा के बारे में संवेदनशील है, उन्होंने कहा, “हमें अपने पूर्वजों की विरासत की रक्षा करनी होगी। समारोह इस तरह से या इस तरह से हो सकता है – इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।”

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन