abd

तुर्की ने संयुक्त अरब अमीरात के विदेशमंत्री की और से उस्मानिया सल्तनत के खिलाफ विवादस्पद ट्वीट करने के मामले में अमीराती राजदूत को तलब किया है.

तुर्की के विदेश मंत्रालय ने अरब अमीरात के संयुक्त अरब अमीरात के कार्यवाहक राजदूत हवला अली अल-शम्सी को बुलाकर स्पष्टीकरण माँगा. साथ ही अमीराती सरकार के खिलाफ अपना विरोध भी जताया.

संयुक्त अरब अमीरात के विदेश मंत्री अब्दुल्ला बिन जायद अल नाहयान ने बुधवार को तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैय्यब एर्दोगान के बुजुर्गों पर 20 वीं शताब्दी के शुरुआती दिनों में मदीना में अपहरण और डकेती, लूटमार करने का आरोप लगाया था. अल नाहयान ने अपने ट्वीट में कहा था,  1916 से 1919 तक मदीने के गवर्नर रहा फहरदीन पाशा एक चोर था.

इस बयान के सामने आने के बाद तुर्की राष्ट्रपति बिफर पड़े और उन्होंने कहा कि वह फ़हरदीन पाशा ही था जिसने ब्रिटिश योजनाओं के खिलाफ मदीना का बहादुरी से बचाव किया था. उन्होंने सवाल किया कि जब फ़हरदीन पाशा मदीना की रक्षा कर रहे थे, आपके पूर्वज कहाँ थे?.” आपके पूर्वजों ने कुछ नहीं किया इसलिए आप दुखी होते हैं, और हमें बदनाम करते हैं.

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano