Kurds celebrate to show their support for the upcoming September 25th independence referendum in Sulaimania, Iraq September 20, 2017. REUTERS/Ako Rasheed
Kurds celebrate to show their support for the upcoming September 25th independence referendum in Sulaimania, Iraq September 20, 2017. REUTERS/Ako Rasheed

बुधवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा के अधिवेशन के दौरान न्यूयॉर्क में तुर्की, ईरान और इराक के विदेश मंत्रियों ने  एक दुर्लभ त्रिपक्षीय बैठक आयोजित की, जिसमे राक़ के कुर्दिस्तान में जनमत संग्रह का विरोध का रुख अपनाया गया.

अंकारा और तेहरान ने उत्तरी इराक के कुर्दों के लिए आजादी का डर अपने कुर्दिश अल्पसंख्यकों को प्रोत्साहित करेगा, और बगदाद ने कथित तौर पर जनमत संग्रह का विरोध किया है.

तुर्की के विदेश मंत्रालय द्वारा जारी एक संयुक्त बयान में तीन राज्यों ने इराक के क्षेत्रीय अखंडता के प्रति अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि की और जनमत संग्रह के लिए उनके “स्पष्ट विरोध” पर जोर दिया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बयान के मुताबिक उन्होंने “समन्वय में जवाबी कार्रवाई करने पर विचार करने के संबंध में भी सहमति व्यक्त की”, हालांकि इस बारें में कोई विवरण नहीं दिया गया.

बयान में सयुंक्त रूप से कहा गया, इराक़ से कुर्दिस्तान को अलग करने के उद्देश्य से कराए जाने वाले जनमत संग्रह ने दाइश के विरुद्ध इराक़ को मिलने वाली उपलब्धियों को ख़तरे में डाल दिया है.

इस बयान में कहा गया है कि इससे क्षेत्र में जो नया तनाव पैदा होगा उसे सरलता से नियंत्रित करना संभव नहीं होगा. ह जनमत संग्रह, कुर्दों के लिए लाभदायक नहीं होगा.

Loading...