Sunday, June 26, 2022

अमेरिकी दादागिरी से निपटने के लिए एर्दोगान ने लिया ये बड़ा फैसला

- Advertisement -

ईरान से तेल आयात को शून्य करने की अन्यथा प्रतिबंध झेलने की धमकी के बाद तुर्की सहित कई देशो के सामने बड़ी मुसीबत पैदा हो गई है। ऐसे में अब तुर्की ने बड़ा फैसला लिया है।

तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोगान ने कहा कि डाॅलर से मुक़ाबला करने का एकमात्र तरीक़ा यह है कि व्यापार में अपनी स्थानीय मुद्राओं का प्रयोग किया जाए। उन्होने कहा है कि इस बारे में हमारी ईरान और रूस से बात हुई है।

एर्दोगान ने बताया कि इसी संबन्ध में हम इस समय चीन से बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अपनी ही मुद्रा में व्यापार करने से हमारे कंधों से विदेशी मुद्रा का बहुत बड़ा बोझ उतर जाएगा।

trump congress

तुर्की राष्ट्रपति ने कहा कि हालांकि तुर्की के विदेशी व्यापार में डाॅलर को बिल्कुल तो समाप्त नहीं किया जा सकता किंतु संसार के देश स्थानीय मुद्राओं में व्यापार करके डाॅलर के संकट से स्वयं को सुरक्षित रख सकते हैं।

बता दें कि हाल ही में तुर्की ने अमेरिका के टेरीफ़ के खिलाफ अमेरिका से आयातित वस्तुओं पर 267 डॉलर मूल्य का आयात शुल्क लगाया। जिसमें कोयला, कागज, बादाम, तंबाकू, चावल, व्हिस्की और कार जैसे उत्पाद शामिल है।

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles