Thursday, July 29, 2021

 

 

 

तुर्की में जमात से नमाज पर लगी रोक, सोशल मीडिया पर एर्दोगान के झूठा बयान वायरल

- Advertisement -
- Advertisement -

सोशल मीडिया पर तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोगान के हवाले से एक बयान सोशल मीडिया पर बड़े पैमाने पर वायरल हो रहा है। जिसमे दावा किया जा रहा है कि एर्दोगान ने तुर्की में मस्जिदों को यह कहते हुए बंद करने से इंकार कर दिया कि उन्हे अल्लाह की जात पर भरोसा है। लेकिन इस बयान की हकीकत कुछ और ही है।

जानकारी के अनुसार, तुर्की ने कोरोनोवायरस के खतरे के चलते सभी मस्जिदों में शुक्रवार की नमाजों को रद्द कर चुका है। तुर्की के धार्मिक मामलों के प्रमुख अली अब्बास ने सोमवार को कहा कि यह एक बड़ा खतरा है कि अगर जमात में जारी रही तो वायरस फैल सकता है।

इस्लामी मामलों के लिए देश में अंतिम निर्णय निर्माता एर्बस ने कहा, “इस्लाम ने उन प्रथाओं को अनुमति नहीं दी है जो मानव जीवन को ख’तरे में डालती हैं।” “पैगंबर मुहम्मद द्वारा हदीसें हैं जो लोगों को अपने आप को विपत्तियों से बचाने की सलाह देती हैं।”

अब्बास ने कहा कि पैगंबर के साथी भी बड़ी आपदा के समय मस्जिदों से दूर रहे थे। “जब तक छूत के लिए खतरा गायब नहीं हो जाता, तब तक समूहिक इबादत निलंबित रहेंगी। जुम्मे की नमाज के बजाय, [मुस्लिम] अपने घरों में जौहर की नमाज जारी रख सकते हैं।”

व्यक्तिगत नमाज के लिए मस्जिद अभी भी खुली रहेगी – लेकिन जमात के साथ नमाज अनुमति नहीं होगी। यह घोषणा तुर्की के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा रविवार को घोषणा की गई थी कि 18 रोगियों को कोरोनावायरस के साथ निदान किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles