नागोर्नो-काराबाख क्षेत्र को लेकर एक बार फिर से अजरबैजान और आर्मेनिया के बीच लड़ाई छिड़ गई। ऐसे में तुर्की ने आगे आकर अजरबेजान की मदद का ऐलान किया है। तुर्की विदेश मंत्रालय ने भाई  राष्ट्र के प्रति अटूट समर्थन की घोषणा की।

तुर्की के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि आर्मेनिया एक और उकसावे की कार्रवाई कर रहा है। बयान में कहा गया, “हम अर्मेनियाई हमले का कड़े शब्दों में निंदा करते हैं, जो कि अंतर्राष्ट्रीय कानून का घोर उल्लंघन है और इससे कई लोग हताहत हुए हैं। इन हमलों के साथ, अर्मेनिया ने एक बार फिर दिखाया है कि यह क्षेत्र में शांति और स्थिरता के लिए सड़क पर सबसे बड़ी बाधा है।”

तुर्की विदेश मंत्री मंत्रालय के प्रवक्ता हामी अकोसी ने बयान में कहा, “अजरबैजान बेशक अपने नागरिकों और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा के लिए आत्म-रक्षा के अपने वैध अधिकार का उपयोग करेगा। इस प्रक्रिया में, अज़रबैजान के लिए तुर्की का समर्थन अटूट है। हालांकि, अगर अजरबैजान चाहता है हम उनका समर्थन करें तो हम ऐसा करेंगे।” उन्होंने कहा, “हम अंतरराष्ट्रीय समुदाय से साथ खड़े होने का आह्वान कर रहे हैं।”

अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय ने रविवार तड़के कहा कि अर्मेनिया ने नागरिकों और उसकी सेना के खिलाफ बड़े पैमाने पर हमले किए, और अजरबैजान ने “फ्रंट लाइन” के साथ जवाबी कार्रवाई में ऑपरेशन चलाया। अजरबैजान के राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव नागरिकों की हत्या करने का आरोप लगाते  हुए कहा कि हम शहीदों के खून का बदला लेते हैं।

राष्ट्रपति इल्हाम अलीयेव ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा कि अर्मेनियाई सशस्त्र बलों ने भारी तोपखाने सहित विभिन्न प्रकार के हथियारों का उपयोग करते हुए कई दिशाओं से अजरबैजान की बस्तियों और सैन्य चौकियों पर गोलीबारी की। उन्होंने कहा, हताहतों की संख्या पर कोई विशेष उल्लेख किए बिना उन्होने कहा, दुश्मन की गोलीबारी के परिणामस्वरूप, नागरिक आबादी और हमारे सैनिकों के बीच हताहत हुए हैं। कुछ लोग जख्मी हुए हैं। अल्लाह हमारे शहीदों को शांति से सुलाए।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano