ट्यूनीशिया: ट्यूनीशिया इजरायल के साथ राजनयिक संबंध स्थापित करने में दिलचस्पी नहीं रखता है और इसकी स्थिति किसी भी अंतरराष्ट्रीय परिवर्तन से प्रभावित नहीं होगी। मंगलवार को विदेश मंत्रालय ने ये जानकारी दी।

इस हफ्ते मोरक्को उन अरब देशों की सूची में शामिल हो गया, जिसने इस साल इजरायल के साथ संबंध सामान्य कर लिए हैं, और इजरायल के दूत मंगलवार को मोरक्को किंग से मिलने के लिए मोरक्को पहुंचे।

ट्यूनीशिया को लेकर कहा जा रहा था कि वह अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के प्रशासन के इशारे पर इजरायल के साथ संबंधों को सामान्य करने वाला अगला अरब देश होगा।

न्यूयॉर्क टाइम्स ने सोमवार को रिपोर्ट दी थी कि ट्रम्प प्रशासन के प्रयासों से ओमान और ट्यूनीशिया इजरायल के साथ संबंध बनाने के लिए अगले राज्य हो सकते हैं।

विदेश मंत्रालय के एक बयान में कहा गया, “जैसा कि ट्यूनीशिया अन्य देशों के संप्रभु पदों का सम्मान करता है, यह इस बात की पुष्टि करता है कि इसका रुख राजसी है, और अंतरराष्ट्रीय परिदृश्य में बदलाव इसका कभी असर नहीं डालेगा।”

मोरक्को ने संयुक्त अरब अमीरात, बहरीन और सूडान के साथ इजरायल के साथ सामान्य संबंधों की ओर बढ़ने का अनुसरण किया।