पाकिस्तान की यात्रा पर आए इस्लाम धर्म के सबसे पवित्र मस्जिद हरमेंन शरिफेंन के इमाम शेख़ सालेह बिन इब्राहिम ऑले तालिब ने इस्लाम के नाम पर हो रही आतंकी घटनाओं को लेकार कहा कि इस्लाम सुरक्षा और शांति का धर्म है और इसका किसी आतंकवाद के साथ कोई संबंध नहीं. लेकिन कुछ लोग इस्लाम की गलत व्याख्या करके आतंकवाद फैलाना की कोशिश कर रहे हैं.

पाकिस्तान के नौशहरा में आयोजित जमीअत उलेमा ए इस्लाम के कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि आतंकवाद देश को आर्थिक रूप से नष्ट करता हैं. ऐसे में इस्लाम आतंकवाद से दूर रहने के लिए सिखाता है. इस्क्ले लिए बकि आलिम आतंकवाद के खिलाफ खड़े हैं, लेकिन कुछ लोग इस्लाम की गलत व्याख्या पेश करके दुनिया में आतंकवाद फैलाना चाहते हैं.

इमाम-ए-काबा ने कहा,  इस्लाम पूरी मानवता के लिए ख़ैर का धर्म है और सभी इस्लामी देश आतंकवाद के खिलाफ एकजुट हैं. उन्होंने मदरसों को लेकर कहा, दुनिया भर में फैले मदरसे लोगों तक इस्लाम की जानकारी पहुंचा रहे हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा कि उम्मते-मुस्लिमा उम्मते-रहमत है और यह उम्मत अपने मुकद्दस जगहों की रक्षा करना जानती है, ऐसे में अब आज पूरी दुनिया की नजरें पाकिस्तान पर टिकी हैं. गौरतलब रहें कि सऊदी अरब के नेतृत्व में बने मुस्लिम देशों के सैन्य संगठन की कमान पाकिस्तान को ही सौंपी गई हैं.

Loading...