अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा सात मुस्लिम देशों के नागरिकों के अमेरिका में प्रवेश करने पर रोक लगाने के फैसले के चलते ब्रिटेन में जमकर उनका विरोध हो रहा हैं. ट्रंप के इस फैसले के खिलाफ उनकी आगामी ब्रिटेन यात्रा का विरोध शुरू हो गया हैं.

ब्रिटेन में 15 लाख लोगों ने एक पिटीशन पर साइन कर ट्रम्प के प्रवेश को ब्रिटेन में प्रतिबंधित किये जाने की मांग की हैं. याचिकाकर्ताओं का कहना है कि ट्रंप को सिर्फ निजी हैसियत से ब्रिटेन आने की इजाजत देनी चाहिए लेकिन सरकारी मेहमान के तौर पर नहीं.

इस पिटीशन पर टेन की संसद (हाउस ऑफ कामंस) में भी चर्चा की गई. टेन की प्रधानमंत्री टेरीजा मे ने इस मांग को अस्वीकार करते हुए कहा कि “ब्रिटेन का नजरिया अलग है.” दरअसल, ट्रम्प पिछले हफ्ते ही प्रधानमंत्री टेरीजा ने अमेरिका यात्रा के दौरान महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की तरफ से ट्रंप को ब्रिटेन आने का न्योता दिया था.

गौरतलब रहें कि लेबर पार्टी के प्रमुख नेता जर्मी कोरबिन ने भी ट्रम्प के ऊपर ब्रिटेन में प्रतिबंध लगाने की मांग की थी. कोरबिन ने कहा था कि जब तक अमरीका में मुसलमानों के प्रवेश पर प्रतिबंध है तब तक अमरीकी राष्ट्रपति को भी हमारे देश में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए. उन्होंने कहा कि यह बहुत ही विचित्र कार्यवाही है और अमरीकी संसद को भी लोगों के मूल अधिकारों की रक्षा करने की कोशिश करनी चाहिए.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें