सऊदी मूल के अमेरिकी पत्रकार जमाल खशोगी की मामले में पहली बार अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सऊदी के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की संलिप्तता की आशंका जताई है।

वॉल स्ट्रीट जर्नल को दिए इंटरव्यू में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कड़ी टिप्पणी करते हुए कहा कि खशोगी की मौ’त में सऊदी क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान का हाथ हो सकता है। इस मामले में उनकी जिम्मेदारी बनती है क्योंकि सऊदी का शासन वास्तव में वही देख रहे हैं।

ओवल ऑफिस में मंगलवार को ट्रंप ने संवाददाताओं को बताया, ‘उनकी (सऊदी अरब) बहुत ही खराब मंशा थी। इस मामले को और बदतर बनाया गया। और यह मामले को दबाने की इतिहास की सबसे बदतर कोशिश है। बहुत ही आसानी से। बेहद घटिया करतूत। इसकी कभी कल्पना नहीं की जा सकती थी। किसी ने वास्तव में गड़बड़ी की। और उन्होंने अब तक के सबसे बदतर ढंग से मामले को छिपाने की कोशिश की।’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि तुर्की ने अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआइए की प्रमुख जीना हास्पेल के साथ खशोगी ह’त्याकांड से जुड़े सभी सुबूत साझा किए हैं। जीना मंगलवार को तुर्की दौरे पर थीं। वहीं तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयब एर्दोगन ने बुधवार को कहा कि खशोगी की ह’त्या के लिए जिम्मेदार लोगों को बचने नहीं दिया जाएगा। उन्हें न्याय के दायरे में लाए जाने से छूट नहीं मिलेगी।

इस पूरे मामले में पहली बार मोहम्मद बिन सलमान रियाद की प्रतिक्रिया आई है। रियाद में आयोजित एक अंतरराष्ट्रीय निवेश कांफ्रेंस में भाग ले रहे बिन सलमान ने कहा कि ‘जमाल खशोगी की ह’त्या एक घृणित अपराध है जिसे उचित नहीं ठहराया जा सकता है.’ सऊदी प्रिंस ने कहा कि वॉशिंगटन पोस्ट के कॉलमनिस्ट की हत्या के कारण किंगडम और तुर्की के बीच मतभेद नहीं होंगे। दरअसल तुर्की के अधिकारी इसमें लगातार सऊदी की साजिश बता रहे हैं।

Loading...