वाशिंगटन | अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 7 मुस्लिम देशो के नागरिको पर लगाए गए प्रतिबंध के अपने फैसले का बचाव किया है. उन्होंने अपने बयान में कहा की यह प्रतिबंध मुस्लिमो पर नही है बल्कि अमेरिका के नागरिको और सीमा को सुरक्षित करने के लिए उठाया गया कदम है. बाकी 40 मुस्लिम देश इस आदेश से प्रभावित नही है. ट्रम्प के इस फैसले की ज्यादातर देशो ने आलोचना की है.

7 मुस्लिम देशो पर प्रतिबंध लगाने के बाद ट्रम्प ने पहली बार अपना बयान देकर सफाई दी. उन्होंने कहा की यह प्रतिबंध सभी ‘मुस्लिमो’ पर नही है. अमेरिका अप्रवासियो का चाहिता देश है और हम आगे भी उत्पीडित लोगो पर दया दिखाते रहेंगे. लेकिन हमारे लिए अमेरिका के नागरिको और सीमा की सुरक्षा अहम् है. यह हमारी जिम्मेदारी है की हम अमेरिका के हितो की रक्षा करे और लोगो की सुरक्षा को सुनिश्चित करे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

ट्रम्प ने अमेरिका को आजादी और वीरो की भूमि बताते हुए कहा की इस प्रतिबंध को ‘मुस्लिमो’ के ऊपर प्रतिबंध न माना जाए. बाकी 40 मुस्लिम देशो पर यह प्रतिबंध नही लगाया गया है. मीडिया लोगो में भ्रम फैला रही है. मीडिया यह भी जानता है की हम अमेरिका को सुरक्षित और आजाद रखेंगे. उधर वाइट हाउस ने भी ट्रम्प के फैसले का बचाव करते हुए बयान जारी किया की राष्ट्रपति ने वो ही किया है जो उन्होंने अपने चुनाव प्रचार में वादा किया था.

बताते चले की डोनाल्ड ट्रम्प ने कुछ दिन पहले , 7 मुस्लिम देशो के नागरिको पर अमेरिका में घुसने पर प्रतिबंध लगा दिया था. इनमे सीरिया, ईराक , इरान, सूडान, सोमालिया और यमन देश शामिल थे. इसके अलावा सीरियाई शर्णार्थियो के प्रवेश पर भी 4 महीने के लिए रोक लगा दी गयी थी. ट्रम्प के इस फैसले की पुरे विश्व में आलोचना होने के बाद ट्रम्प ने इस पर अपनी सफाई पेश की. उन्होंने कहा की हम आगे और भी सख्त कदम उठाने जा रहे है.

Loading...